Patrika Hindi News

> > > > fake police inspector caught red handed while performing duty

थाने में दरोगा बनकर दिखाता रहा रौब, बाद में खुली पोल तो दंग रह गई पुलिस

Updated: IST fake police inspector
आपने बॉलीवुड में तो नकली थानेदार पर कई फिल्में देखी होगीं, लेकिन ग्वालियर में एक ऐसा वाकया सामने आया है, जिसे सुनने के बाद हैरत में पड़ जाएगें। ग्वालियर देहात में आने वाले आंतरी थाने के दरोगा साहब पिछले तीन दिनों से इलके में अपना रौब दिखा रहे थे।

ग्वालियर। आपने बॉलीवुड में तो नकली थानेदार पर कई फिल्में देखी होगीं, लेकिन ग्वालियर में एक ऐसा वाकया सामने आया है, जिसे सुनने के बाद हैरत में पड़ जाएगें। ग्वालियर देहात में आने वाले आंतरी थाने के दरोगा साहब पिछले तीन दिनों से इलके में अपना रौब दिखा रहे थे।

यह भी पढें- चिटफंडी आया तो कोर्ट पेशी पर था, पर जो हुआ उसे जानेंगे तो चौंके बिना नहीं रहेंगे

इलाके की पूरी कानून व्यवस्था की कमान संभाले हुए थे। मामले में चौंकाने वाली बात ये है कि इलाके की सुरक्षा जिस दरोगा के हाथ में थी, वो दरअसल कोई पुलिस वाला है ही नहीं। औरेया इटावा का रहने वाला ये युवक फर्जी पिछले तीन दिनों से दरोगा बनकर पूरे पुलिस महकमे को ठग रहा था। पुलिस महकमा जो अपराध की बूंसूंघ लेता है वो अनपे ही घर में इस फर्जीबाडे को नहीं पहचान सका। फिलहाल नकली दरोगा असली हवालात में हवा खा रहे हैं।

आतंरी में तीन दिन तक थाने की कमान संभालने वाला फर्जी दरोगा वैंभव सेंगर इससे पहले देवास में भी फर्जी सिपाही बनकर वर्दी का रौब दिखा चुका है। फरेब में पकड़े जाने पर जेल की हवा भी खानी पडी थी। फर्जी दरोगा वैभव ने पुलिस को बताया कि वो मूलत: अजीतमल औरेया ( यूपी) का रहने वाला है।

ऐसे बनाई प्लानिंग
वैभव इन दिनो इंदौर मे रह रहा है। उसके दोस्त टेकनपुर में रहते हैं। वैभव को उसके दोस्तों ने बताया कि आंतरी थाने में अभी कोई भी प्रभारी नहीं है। बस यहीं से उसने फर्जी दरोगा बनने की साजिश को अंजाम दिया। पहले से तय प्लानिंग के अनुसार वो दरोगा बनकर 26 नवंबर को थाने पहुंचा। उसने स्टाफ को बताया वह दरोगा है। 27 नवंबर को थाने की सरकारी गाड़ी से इलाके में घूमा शराब सट्टे और अवैध कारोबार करने वालों को टटोला और इलाके में वर्दी का रौब जमता रहा।

ये रही पुलिस की नाकामी

फर्जी दरोगा वाले पूरे एपीसोड में पुलिस की नाकामी सामने आई है। सवाल उठता है थाना प्रभारी को हर दिन एसडीओपी एएसपी को खैरियत बताना होती है। फिर तीन दिन तक इन अधिकारियों को यह पता क्यों नही चला थाने पर फर्जी दरोगा डयूटी कर रहा है।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???