Patrika Hindi News

सड़क पर निर्माण सामग्री रखी तो भुगतना पड़ेगा ये जुर्माना : जानिए

Updated: IST bhind
नगर पालिका अपनी टै्क्टर-ट्रॉलियों से उठवाएगी मालबे को, संबंधित व्यक्ति से लिया जाएगा 100 रुपए प्रति ट्रॉली का जुर्माना

भिण्ड. अब शहर की सड़कों, गलियों या अन्य सार्वजनिक स्थान पर भवन निर्माण सामग्री को डंप करना, अतिक्रमण में टूटे हुए मलबे को जमा करना मुश्किल होगा।

नगर पालिका इस मलबे को नपा द्वारा अपनी टै्रक्टर-ट्रॉलियों से उठवाया जाएगा तथा संबंधित व्यक्ति से 100 रुपए प्रति ट्रॉली की दर से अर्थदण्ड वसूला जाएगा। नपा ने इसके लिए उपयंत्री आशीष राजपूत को प्रभारी बनाया है। नगर पालिका अब शहर को साफ सुथरा बनाए रखने के लिए घर-घर से कचरा संग्रहण की शरुआत भी कर रही है। इसके लिए व्यावसायिक क्षेत्र में स्थित प्रति घर से 50 रुपए तथा दुकानों, फर्मों एवं कारखानों, होटल रेस्तरां आदि से 150 रुपए प्रतिमाह तथा अन्य क्षेत्रोंं में स्थित प्रत्येक घर से 30 रुपए प्रतिमाह कचरा संग्रहण शुल्क भी वसूला जाएगा।

नपा के सीएमओ जेएन पारा ने कहा है कि खुले में कचरा फें कने और शौच करने पर संबंधितों के विरुद्ध कड़ी वैधानिक कार्रवाई अमल में लाकर दण्डित किया जाएगा। सीएमओ पारा के अनुसार नगरीय क्षेत्र के तहत मकानों की टूट फूट, मरम्मत तथा अतिक्रमण मुहिम के दौरान हुई टूट फूट के मलबा का तत्काल संबंधित गृहस्वामी द्वारा निपटान नहीं कराया जाता जो कई दिनों तक सार्वजनिक स्थलों पर पड़ा रहकर आम लोगों को आवागमन व निस्तार में परेशानी खड़ी करता है तथा शहर को भी अस्वच्छ बनाता है। इसी तारतम्य में इस मलवे के तत्काल निपटान तथा घर-घर से कचरा संग्रहण की सशुल्क प्रक्रिया शुरू की जा रही है।

"शहर को स्वच्छ बनाना सभी की जिम्मेदारी है। परिषद ने 26 नवंबर 2016 को इस संबंध में संकल्प पारित करके कचरे के निपटान व घर-घर से संग्रहण की रणनीति बनाई है।"

कलावती वीरेन्द्र मिहोलिया, अध्यक्ष नपा परिषद भिण्ड

"शहर में जल्द ही केन्द्रीय स्वच्छता सर्वेक्षण दल का आगमन होने वाला है। शहर को स्वच्छता के मानकों पर खरा उतरने की स्थिति में लाने में नपा और प्रशासन ही नहीं आम नागरिकों को भी कचरा, मलबा सड़क पर एकत्र करें व आसपास सफाई रखने में सहयोग करें।"

घनश्याम मिश्रा, समाजसेवी चोरा गली भिण्ड

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???