Patrika Hindi News

पंजीयन कराने धक्का मुक्की के बीच घंटों धूप में खड़े रहे किसान

Updated: IST Farmers
-नई व्यवस्था बनाने के बाद किसानों की परेशानी बढ़ी

टिमरनी. कृषि उपज मंडी में क्रय विक्रय विपणन सहकारी समिति द्वारा किसानों से समर्थन मूल्य पर मंूग और उड़द की खरीदी की जा रही है। खरीदी के दौरान एफ एक्यू के मापदंडों का पालन नहीं किया जा रहा है। सोमवार को मंडी में हुए हंगामे को देखते हुए मंडी प्रशासन और खरीदी केंद्र प्रभारी द्वारा नई व्यवस्था बनाई गई है। किसान अपनी ही फसल बेचने के लिए मंगलवार को कई घंटों तक धूप में खड़े होकर पंजीयन कराने का इतजार करते दिखे। पंजीयन के लिए नाम लिखाने के दौरान धक्का मुक्की की स्थिति बन गई। मंडी परिसर में हंगामा मच गया था। हंगामा शुरू होते देख मंडी कर्मचारियों ने नाम लिखना बंद करके अंदर चले गए। कुछ किसान मंडी कार्यालय के अंदर प्रवेश करने लगे और जोर जोर से चिल्लाने लगे। तत्काल मंडी सचिव एमके रायकवार द्वारा पुलिस सहायता मांगने पर एसआई मनोज दुबे आदि ने व्यवस्था संभाली। कतार लगाकर नाम लिखवाने की व्यवस्था की गई।

30 जून तक होगी खरीदी :

शासन ने समर्थन मूल्य पर आगामी 30 जून तक ही खरीदी की जाएगी। 10 जून से खरीदी शुरू होनी थी जो करीब 4 से 5 दिन लेट शुरू हुई। बताया जा रहा है इसकी राशि किसानों के बंैक खातों में एक माह के अंदर आएगी। मूंग की आवक ओर पंजीयन के लिए लगी किसानों की कतार को देखकर लगता नहीं है कि आगामी 30 जून तक खरीदी पूरी हो सके। खरीदी कार्य भी धीमी गति से चल रहा है।

परिवहन का अभाव :

हजारों क्विंटल मूग खरीद ली गई है। लेकिन इसका परिवहन धीमी गति से होने के चलते जगह के अभाव में खरीदी धीमी गति से चल रही है। खरीदी शेड में मंूग से भरी हुई कट्टियों का ढेर लगा हुआ है। बारिश होने से इनके भीगने की भी आशंका बनी हुई है।

अतिरिक्त केंद्र खोलने की मांग :

मंडी अध्यक्ष छापरे द्वारा किसानों की समस्याओं को देखते हुए सोमवार को अपर कलेक्टर से मुलाकात कर रहटगांव और टिमरनी में एक एक अतिरिक्त खरीदी केंद्र खोलने की मांग की थी। इस संबंध में अपर कलेक्टर और नायब तहसीलदार को आवेदन भी दिया गया है।

इनका कहना है...

धक्का मुक्की की स्थिति बनते देख पुलिस बुलानी पड़ी। किसानों को लाइन में लगाकर पंजीयन किए गए।

-एमके रायकवार, सचिव, कृषि उपज मंडी

टिमरनी और रहटगांव में अतिरिक्त केंद्र खोलने अधिकारियों को आवेदन दिए गए हैं। प्रशासन को जल्द व्यवस्था बनानी चाहिए।

-बृजमोहन छापरे, अध्यक्ष, कृषि उपज मंडी

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???