Patrika Hindi News

सामग्री महंगी तो कैसे बन पाएंगे पीएम आवास

Updated: IST PM housing
अधिकारियों का दबाव, हितग्राहियों को सताने लगी मकान निर्माण की चिंता

सिवनी मालवा. जनपद पंचायत के अंतर्गत प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के 2085 आवास के निर्माण की स्वीकृति मिलते ही निर्माण कार्य से संबंधित सामग्री विक्रेताओं व ठेकेदारों ने भाव बढ़ा दिए हैं। जिसके चलते शासन से स्वीकृत राशि भी हितग्राहियों को आवास निर्माण में कम पड़ रही है। वहीं शासन के नुमाइदें हैं कि हितग्राहियों पर मॉडल आवास बनाने के लिए प्रेशर डाल रहे हैं। ज्ञात हो कि प्रधानमंत्री आवास हितग्राहियों को 13 गुणा 20 के क्षेत्रफल में आवास बनाना है। जिसमें एक रूम और एक किचन सहित सामने खाली जगह छोडऩा जरूरी है। इसके लिए शासन से तीन किश्तों में 1 लाख 20 हजार रुपए दिए जा रहे है। लेकिन खर्च सामग्री की कीमत बढऩे से मिलने वाली राशि कम पड़ रही है।

  • आवास निर्माण में लगने वाली सामग्री व राशि
  1. सामग्री की मात्रा भाव कुल राशि
  2. ईट 5500 प्रति नग भाड़े सहित 5 रु. = 27500 रुपए
  3. रेत 7 ट्रॉली, 700 फीट 27 रु. फीट = 18900 रुपए
  4. सीमेंट लगभग 75 बैग 305 रु. प्रति बैग = 22875 रुपए
  5. गिट्टी 400 फीट भाड़े सहित 37 रु. फीट = 14800 रुपए
  6. लोहा 7 क्विंटल भाड़े सहित 4600 रुपए = 32200 रुपए
  7. भरती के लिए बजरी 4 ट्र-ली 2000 रु. प्रति ट्राली = 8000 रुपए

सभी सामग्री का कुल योग 1 लाख 24 हजार 275 रु. होता है। इसके बाद दरवाजे खिड़की, आवास की पुताई, हितग्राही की मजदूरी सहित सेंटिग का पैसा हितग्राही कहां से लाएगा। यह समस्या हितग्राहियों के सामने बनी हुई है वहीं शासन के नुमाइदें हैं कि आवासों को मॉडल के रूप में बनवाकर अपनी वाहवाही लूटने के लिए हितग्राहियों पर आवास बनाने के लिए दबाव डाल रहे हैं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???