Patrika Hindi News

वेतन चाहिए तो एप डाउनलोड करो

Updated: IST Umang mobile application
जिला शिक्षा अधिकारी अरविंद चौरगड़ेे ने एप का 100 प्रतिशत उपयोग न कराने वाले प्राचार्यों के वेतन आहरण पर रोक लगाई है। डीईओ चौरगड़े ने बताया कि पेंडिंग काम वाले प्राचार्यों पर कार्रवाई की जाएगी।

होशंगाबाद. जिले में 6589 शिक्षकों में से सिर्फ 2981 ने ही एम. शिक्षामित्र एप डाउनलोड किया है। इसमें से भी सिर्फ 2412 शिक्षक एप का उपयोग कर रहे हैं। जिला शिक्षा अधिकारी अरविंद चौरगड़ेे ने एप का 100 प्रतिशत उपयोग न कराने वाले प्राचार्यों के वेतन आहरण पर रोक लगाई है। डीईओ चौरगड़े ने बताया कि पेंडिंग काम वाले प्राचार्यों पर कार्रवाई की जाएगी। इस संबंध में सात दिसंबर को बैठक बुलाई गई है। यदि किसी शिक्षक ने नवंबर का वेतन आहरित किया, तो उस पर कार्रवाई होगी।

याचिका पर सुनवाई आज

एम शिक्षा मित्र एप योजना को उसकी खामियां दूर करने के बाद होशंगाबाद जिले में लागू करने की मांग के बीच जबलपुर हाईकोर्ट में शिक्षक कल्याण संगठन ने याचिका प्रस्तुत की थी। यह याचिका हाईकोर्ट ने स्वीकार कर ली है। याचिका पर सुनवाई 2 दिसंबर शुक्रवार को होगी। मप्र राज्य कर्मचारी संघ अध्यक्ष भुवनेश्वर दुबे ने बताया कि योजना में कई खामियां है जिससे शिक्षकों को परेशान होना पड़ेगा। हमने कमियों को दूर करने के उपरांत ही शिक्षा विभाग व आदिम जाति कल्याण विभाग की सरकारी शालाओं में इसे लागू कराने के लिए याचिका लगाई है। शुक्रवार 2 दिसंबर को इस पर सुनवाई होगी।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???