Patrika Hindi News

 कैंसर से जंग हारी मां, बेटा बेसहारा

Updated: IST Hoshangabad,Three months of cancer, Chirapatla res
बेटे अंकित को रखने तैयार नहीं रिश्तेदार

बैतूल. तीन माह से कैंसर की जंग लड़ रही चिरापाटला निवासी 40 वर्षीय सकुन शेलुकर शुक्रवार को जिदंगी से जंग हार गई। कैंसर के इलाज के लिए कई समाजसेवी लोगों से मदद की गुहार लगाई , लेकिन सकुन को किसी ने भी आर्थिक सहायता नहीं पहुंचाई। इलाज के लिए ना ही कोई शासकीय मद्द मिली। सकुन चिचोली के कुमार मोहल्ले में अपने आठ वर्षीय बेटे के साथ पिछले आठ वर्ष से रह रही थी। बीमारी के चलते पहले की अपनों ने सकुन का साथ छोड़ दिया था। कैंसर से जंग हार जाने के बाद आठ वर्षीय अंकित अकेला रह गया। रिश्तेदार भी अंकित को रखने को तैयार नहीं हैं। अंकित के पिता शंकर शेलकर ने मां का साथ उसके जन्म लेने के पूर्व ही छोड़ दिया था। मां चिचोली में रहकर मजदूरी करने अपना तथा बेटे का पालन पोषण करती थी। आंख के कैंसर का इलाज भोपाल के आयुर्वेदिक अस्पताल में चल रहा था।

मदद को आगे आए लोग

समाज सेवी राजेश सरियाम में महिला के इलाज के लिए पैसे खर्च किए, उन्होंने महिला का इलाज भोपाल के आयुर्वेदिक चिकित्सालय में इलाज कराया। इलाज के दौरान मद्द करने वाले सतीश इवने ने बताया कि यदि परिजन अंकित को नहीं अपनाते है, तो अंकित को गोद देने के लिए शासन से नियमानुसार कार्रवाई कराकर इच्छुक व्यक्ति को गोद देने की कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???