Patrika Hindi News

रेलकर्मी के पुत्र की हत्या का खुलासा-  दोस्तों ने की हत्या, शराब की बोतल टूटने पर हुआ था विवाद

Updated: IST hoshangabad
रेलवे के सीएंडडब्ल्यू में टेक्नीशियन देवनंदन चौहान के 23 वर्षीय पुत्र सुमित चौहान की हत्या उसी के दोस्तों ने की थी। पुलिस ने सुमित के दोस्त को गिरफ्तार कर लिया है।

इटारसी। रेलवे के सीएंडडब्ल्यू में टेक्नीशियन देवनंदन चौहान के 23 वर्षीय पुत्र सुमित चौहान की हत्या उसी के दोस्तों ने की थी। पुलिस ने सुमित के दोस्त नया यार्ड निवासी गोलू उर्फ मनोज चौहान और इंदिरा कॉलोनी निवासी अजय मोरे को गिरफ्तार कर लिया है। अजय मोरे ने सुमित केे हाथ पकड़े थे और मनोज ने बका से सुमित का गला रेंता था। पेट व शरीर के अन्य हिस्सों पर भी वार किए थे।

वारदात के दौरान मनोज और अजय का तीसरा साथी चेतन घर के बाहर खड़ा था। चेतन अभी फरार है। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त बका और खून से सने कपड़े बरामद कर लिए हैं। मुख्य आरोपी गोलू उर्फ मनोज सफाईकर्मी है और अजय मोरे इटारसी रेलवे स्टेशन पर ठेकेदारी का काम करता है।

hoshangabad

टीआई भूपेंद्र सिंह मौर्य ने बताया कि वारदात की रात सुमित चौहान के घर पर शराब पार्टी चल रही थी। जिसमें इन तीन आरोपियों के साथ कुछ अन्य युवक भी थे। सभी नशे में धुत थे। मनोज के हाथ से शराब की बोतल फर्श पर गिरकर टूट गई थी और उसने पूरा अचार भी खा लिया था।

इस पर सुमित भड़क गया और मनोज से उसका विवाद हो गया। बीच-बचाव करके दोस्तों ने दोनों की सुलह करा दी। इसके बाद विक्रम, आकाश, राकेश और दीपक नाम के चार युवक वहां से चले गए। इनके जाने के बाद सुमित का फिर से मनोज चौहान के साथ विवाद हुआ। विवाद इतना बढ़ा कि अजय मोरे ने सुमित को तमाचा जड़ दिया। मनोज फर्श पर गिर गया।

इसके बाद अजय नेे सुमित के हाथ पकड़े और मनोज ने बका से वार कर उसकी हत्या कर दी। यह पूरा घटनाक्रम रविवार रात बारह बंगला क्षेत्र में आआरआई के सामने स्थित रेलवे कॉलोनी के आवास एमएपी 126 डी में रेलकर्मी देवनंदन चौहान के घर में हुआ।

देवनंदन का बड़ा पुत्र संजय बिहार के नालंदा जिले के बेला में रहता है। देवनंदन व उनकी पत्नी 11 अक्टूबर को संजय से मिलने बेला गए थे। सुमित घर में अकेला था। सोमवार सुबह देवनंदन व उनकी पत्नी पटना-सिकंदराबाद से इटारसी लौटे और सुबह 6.30 बजे घर पहुंचे, तो सुमित का खून से लथपथ शव फर्श पर पड़ा था।

पुलिस को गुमराह करता रहा मनोज

पुलिस ने मनोज को गिरफ्तार कर पूछताछ की तो उसने कहा कि हत्या में प्रयुक्त बका उसने भौंरा के नाले में फेंका है। पुलिस मनोज को लेकर नाले पर पहुंची, लेकिन कुछ नहीं मिला। पुलिस ने फिर से मनोज से कड़ाई से पूछताछ की तो उसने कहा, सुमित के कपड़े जला दिए हैं। बहुत देर बाद उसने कबूल किया कि बका और खून में सने कपड़े उसने स्वयं के घर में ही छुपाकर रखे हैं। पुलिस ने कपड़े और बका बरामद कर लिया है। आरोपी ने खून से सनी सुमित की पैंट धोकर रख दी थी।

ऐसे हुआ खुलासा

सुमित चौहान और उसके दोस्तों ने नया यार्ड में साईं बाबा की प्रतिमा स्थापित की थी। प्रतिमा विसर्जन के बाद रविवार शाम पांडाल स्थल पर दाल बाफले का कार्यक्रम था। सुमित चौहान, गोलू उर्फ मनोज चौहान, अजय मोरे, बारह बंगला निवासी विक्रम डागोरिया, आकाश धारू, राकेश पथरोट, कैलाश विहार कॉलोनी निवासी दीपक सिंह बिसेन और भुसावल निवासी चेतन ने सुमित के घर पर शराब और चिकन बनाने की प्लान बनाया और सभी सुमित के घर बारह बंगला एमएपी १२६-डी आ गए। यहीं पर यह वारदात हुई। पुलिस ने शराब पार्टी में शामिल युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो इस वारदात का खुलासा हो गया।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???