Patrika Hindi News

बीमार छात्र का इलाज नहीं कराया तो होगी एफआईआर

Updated: IST Bells will be heard in schools today
सीबीएसई और यूजीसी जल्द लागू करेंगे सख्त नियम, डायरेक्टर-प्राचार्य पर होगी कार्रवाई

होशंगाबाद. स्कूल-कॉलेज में किसी हादसे में छात्र के घायल होने या गंभीर रूप से बीमार पडऩे पर प्रबंधन को उसे तुरंत अस्पताल ले जाना होगा। प्रबंधन ऐसा नहीं करेगा और लापरवाही बरतेगा तो प्राचार्य या संस्था के डायरेक्टर जिम्मेदार होंगे। उनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की जा सकती है। इसे लेकर सीबीएसई और यूजीसी जल्द सख्त नियम बनाने जा रहे हैं। सामान्य तौर पर स्कूल-कॉलेज या होस्टल प्रबंधन अपने यहां घटना होने पर संबंधित छात्र-छात्रा को अस्पताल भेजने के बजाय मामला दबाने की कोशिश करते हैं। बताते हैं कि नई शिक्षा नीति में क्वालिटी एजुकेशन के लिए तो कई बड़े कदम उठाए जा रहे हैं। साथ ही नैतिक शिक्षा, हिंदी भाषा को मजबूत करने के लिए भी कुछ फैसले लिए जा रहे हैं।
तत्काल मदद करें और पुलिस को सूचना दें
कई बार स्कूल प्रबंधन मामला छिपाने की कोशिश करता है। जबकि डरने के बजाय वे छात्रों की तुरंत मदद करें। पुलिस को भी सूचना दें। स्कूल में सारे अस्पताल, एम्बुलेंस, कंट्रोल रूम के नंबर दर्ज होना चाहिए, ताकि तुरंत मदद मिल सके।
सीसीटीवी कैमरे लगाना अनिवार्य
इसके अलावा स्कूल-कॉलेज और होस्टलों में छात्रों की सेफ्टी के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाना भी अनिवार्य होगा। सभी सीबीएसई स्कूल और यूजीसी से किसी भी कोर्स की मान्यता प्राप्त कॉलेजों को इसका पालन सख्ती से करना होगा। छात्राओं के साथ छेड़छाड़ या किसी भी तरह की प्रताडऩा की जानकारी छिपाई तो अभिभावक या बच्चे की शिकायत पर प्राचार्य और प्रबंधन पर कार्रवाई होगी। हर छात्र का आधार नंबर और अभिभावक का मोबाइल नंबर स्कूल रिकॉर्ड में रखना होगा।
ड्राइविंग लाइसेंस नहीं तो अभिभावक देंगे जवाब
ड्राइविंग लाइसेंस नहीं होने पर छात्रों द्वारा स्कूल में दो या चार पहिया वाहन लाने पर अभिभावकों से जवाब मांगा जाएगा। जरूरत पड़ी तो अनुशासनात्मक कार्रवाई भी करना होगी। स्कूलों में फायर सेफ्टी उपकरण, इमरजेंसी बेल व डोर अनिवार्य होंगे। स्कूलों के 100 मीटर के दायरे में शराब या तंबाकू की दुकान होने पर कलेक्टर को जानकारी भेजना होगी। शिक्षक बच्चों के साथ मारपीट नहीं कर सकते। हालांकि छात्रों की गंभीर शरारत या विवाद के मामले में उन्हें निलंबित किया जा सकेगा।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???