Patrika Hindi News

कुलभूषण के लिए पाक से किया 15 बार अनुरोध, नहीं मिला जवाब: भारत

Updated: IST India demands of kulbhushan case to pakistan
कुलभूषण जाधव मामले पर भारत-पाकिस्तान में तानातनी जारी है। कुलभूषण जाधव से भारत के प्रतिनिधि को मिलने देने के लिए अब तक विदेश मंत्रालय की तरफ से 15 बार पाकिस्तान को रिक्वेस्ट किया जा चुका है, लेकिन पाकिस्तान अभी तक जवाब नहीं भेजा है।

नई दिल्ली: कुलभूषण जाधव मामले पर भारत-पाकिस्तान में तानातनी जारी है। भारत सरकार ने एक बार फिर पाकिस्तान से अधिकारिक तौर पर यह साफ करने को कहा है कि कुलभूषण जाधव के खिलाफ कौन-सी धारा लगाई गई और उन्हें किस तरह से सजा सुनाई गई। कुलभूषण जाधव से भारत के प्रतिनिधि को मिलने देने के लिए अब तक विदेश मंत्रालय की तरफ से 15 बार पाकिस्तान को रिक्वेस्ट किया जा चुका है, लेकिन पाकिस्तान ने अभी तक इसकी इजाजत नहीं दी है।

पाक के डिप्टी हाई कमिश्नर हो चुके हैं तलब

बुधवार को विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान के डिप्टी हाई कमिश्नर सैयद हैदर शाह को बुलाकर कुलभूषण जाधव के खिलाफ सभी तथाकथित सबूत और उससे संबंधित दस्तावेज मांगे। विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान से यह भी पूछा कि वह लिखित तौर पर यह बताए कि वहां की एक मिलिटरी कोर्ट द्वारा फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद पाकिस्तान सरकार इस बारे में क्या सोच रही है।

भारत सोची समझी हत्या करार देगा-बागले

कुलभूषण जाधव के खिलाफ जो फैसला सुनाया गया है उसकी कॉपी की भी मांग की गई। भारत ने बार-बार यह बात कही है कि अगर कुलभूषण जाधव को कुछ होता है तो भारत इसे सोची-समझी हत्या करार देगा। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने गुरुवार को बताया कि पाकिस्तान को यह बात साफ तौर पर बता दी गई है की कुलभूषण जाधव के खिलाफ जो कार्रवाई की गई है वह न्यायिक प्रक्रिया के विरुद्ध है। वह पूरी तरह निर्दोष हैं और उनका अपहरण करके जबरदस्ती फंसाया गया है। भारत कुलभूषण जाधव को रिहा कराने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है।

HC ने याचिका खारिज की
कुलभूषण जाधव की पाकिस्तान से रिहाई को लेकर दायर याचिका को दिल्ली हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है। हाईकोर्ट ने कहा कि ये बेहद संवेदनशील मामला है, लिहाजा ये ओपन कोर्ट में सुने जाने वाला केस नहीं है। इस मामले में सरकार का पक्ष रखने के लिए पेश हुए अतिरिक्त महाधिवक्ता संजय जैन के पक्ष से हम संतुष्ठ है कि सरकार कुलभूषण जाधव को लेकर अपनी कोशिशों में कोई कमी नहीं छोड़ रही है। कोर्ट ने कहा कि कुलभूषण जाधव की रिहाई को लेकर केंद्र सरकार अपनी विशेषज्ञता और अनुभव के साथ कदम उठा।

HC ने क्या कहा
जाधव की रिहाई और इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस के सामने जाधव का मामला रखने की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने सुनवाई से साफ-साफ इनकार कर दिया और कहा कि सरकार का काम अपने नागरिकों की सुरक्षा करना है। कोर्ट ने कहा कि हमें लगता है कि ये याचिका मीडिया अटेंशन पाने के लिए लगाई गई है और इस तरह की याचिकाओं को समर्थन नहीं देने की जरूरत है।
कुलभूषण को बचाने के लिए हर संभव प्रयास-बागले

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता से बागले ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल पर कहा कि मामला कोर्ट में है इस पर ज्यादा कुछ कहना ठीक नहीं है। हालांकि उन्होंने कहा कि कुलभूषण जाधव को बचाने के बारे में भारत सरकार हर संभव कोशिश कर रही है।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???