Patrika Hindi News

ताइवान प्रतिनिधिमंडल के दौरे को लेकर भारत ने चीन को साधा

Updated: IST Vikas Swaroop
ताइवान सांसदों के प्रतिनिधिमंडल के दौरे पर चीन की आपत्ति के बाद भारत ने इसे 'अनाधिकारिक' करार दिया।

नई दिल्ली. ताइवान सांसदों के प्रतिनिधिमंडल के दौरे पर चीन की आपत्ति के बाद भारत ने इसे 'अनाधिकारिक' करार दिया। भारत सरकार ने कहा कि अनाधिकारिक ग्रुप के दौरे का राजनीतिक अर्थ नहीं निकालना चाहिए। बता दें कि ताइवान की महिला सांसदों के भारत दौरे को लेकर चीन ने कहा था कि भारत को ताइवान के साथ संबंधों में 'सावधानी' बरतनी चाहिए। पिछले हफ्ते अमरीकी प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप ने भी चीन की 'वन चाइना पॉलिसी' को सही करार दिया था, जबकि पहले वह इसके खिलाफ थे।

क्या कहा भारत के विदेश मंत्रालय ने

चीन की आपत्ति पर भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा, "ताइवान के ग्रुप में अकादमिक विद्वान, कारोबारी, धार्मिक हस्तियां और 'कुछ' सांसद शामिल हैं। इस तरह के अनाधिकारिक समूहों की यात्रा पूरी तरह पर्यटन के उद्देश्य से है। इसका राजनीतिक अर्थ नहीं निकालना चाहिए।"

भारत की यह प्रतिक्रिया चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग के उस बयान के बाद आई है, जिसमें उन्होंने कहा था कि उनकी सरकार ने ताइवानी संसदीय प्रतिनिधिमंडल की मेजबानी करने को लेकर कूटनीतिक विरोध दर्ज कराया था। गेंग ने कहा था, 'हमने चीन और ताइवान के साथ कूटनीतिक संबंध रखने वाले देशों की ओर से ताइवान के साथ आधिकारिक संपर्क का हमेशा विरोध किया है।"

इसी हफ्ते ताइवान के तीन सदस्यीय महिला संसदीय प्रतिनिधिमंडल ने भारत का दौरा किया था। ताइवान की ओर फिलहाल दिल्ली में ताइपेई इकॉनमिक ऐंड कल्चरल सेंटर का संचालन किया जाता है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???