Patrika Hindi News

सब्जियों और फल से बनी 500 किलो खाद

Updated: IST compost
सब्जी मंडियों से निकलने वाले जैविक कचरे से खाद बनानेके लिए नगर निगम ने सब्जी मंडियों में ही छोटे-छोटे प्लांट लगाने की शुरूआत की थी। खाद्य का उपयोग नगर निगम के बगीचों में किया जाएगा इस्तेमाल।

इंदौर. नगर निगम द्वारा शहर से निकलने वाले जैविक कचरे (सब्जी, फल आदि) से खाद बनाने का जो प्लांट नंदलालपुरा सब्जी मंडी में लगाया था, उसके नतीजे आने लगे हैं। सोमवार को यहां से 500 किलो खाद पहले दौर में नगर निगम को मिली है। जिस खाद का इस्तेमाल नगर निगम अपने बगीचों में करेगा।

सब्जी मंडियों से निकलने वाले जैविक कचरे से खाद बनानेके लिए नगर निगम ने सब्जी मंडियों में ही छोटे-छोटे प्लांट लगाने की शुरूआत की थी। पहला प्लांट नगर निगम ने नंदलालपुरा स्थित ज्योतिबा फूले मार्केट में लगाया था। यहां लगने वाली सब्जी मंडी से रोजाना निकलने वाले कचरे को यहां लाकर उसमें गोबर और जैविक घोल मिलाकर उसकी खाद बनाने का काम किया जाता था। इस कचरे को लगातार 45 दिनों तक पलटते रहने के बाद खाद तैयार होती थी। निगम ने अभी तक यहां निकलने वाले कचरे से 500 किलो खाद का निर्माण कर लिया है।

खाद का निर्माण नगर निगम अपने बगीचों में करेगा
नगर निगम आयुक्त मनीष सिंह के मुताबिक यहां बनी खाद को सोमवार को नगर निगम ने निकालकर इसे इस्तेमाल के लिए निगम के उद्यान विभाग में भेजा है। इस खाद का निर्माण नगर निगम अपने बगीचों में करेगा। निगम ऐसे ही राजकुमार सब्जी मंडी और चोईथराम मंडी में भी जैविक खाद से कचरा बनाने के प्लांट लगाने जा रहा है, जिससे निकलने वाली खाद नगर निगम अपने बगीचों में इस्तेमाल करेगी।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???