Patrika Hindi News

नोटबंदी से सेंचुरी टेक्सटाइल्स के 760 कर्मचारी पर गिरी गाज

Updated: IST century textiles
केएम बिरला ग्रुप की कंपनी हैं सेंचुरी टेक्सटाइल्स डेनिम का करती हैं उत्पादन।

इंदौर/धामनोद. देश की बड़ी टेक्सटाइल्स कंपनियों में शुमार सेंचुरी टेक्सटाइल्स की डेनिम इकाई में कामबंदी की घोषणा हो चुकी है। खरगोन जिले के कसरावद तहसील में स्थित इस इकाई में काम करने वाले 760 कर्मचारियों को नोटिस देने के साथ ही आधे माह का वेतन दिए जाने का कहा गया है। कंपनी का कहना है कि बाजार में मांग नहीं है और कंपनी के पास पर्याप्त मात्रा में स्टॉक मौजूद है, इसके चलते कामबंदी की गई है।

नवंबर में देश में 500 और 1000 रुपए के नोटबंदी के बाद मांग घटने लगी है। डेनिम उत्पादन में अव्वल सेंचुरी की इस इकाई का उत्पादन 2 करोड़ मीटर प्रतिवर्ष है। देशभर के बाजारों में डेनिम की मांग घटने के चलते कंपनी ने अपना उत्पादन स्थगित कर दिया है। यही वजह है कि कामबंदी की गई है।

लेआफ लेटर दिया

कंपनी की ओर से श्रमायुक्त कार्यालय इंदौर को 760 श्रमिकों को लेऑफ का पत्र भी सौंपा है। इसके चलते उक्त कार्यालय में 1 दिसंबर को यूनियन पदाधिकारी सहित कंपनी और अधिकारियों की बैठक होगी। श्रमिक राजकुमार दुबे, अभयसिंह, विक्रम डावर आदि ने बताया कि वे डेनिम इकाई के श्रमिक है, जब कंपनी गए तो बताया कि उपस्थिति के हस्ताक्षर करके वापस घर चले जाओ और नोटिस चस्पा के माध्यम से बताया कि अत्यधिक स्टॉक व डेनिम माल नहीं बिकने के कारण और भविष्य में उक्त माल को कोई नहीं खरीदने के कारण कार्यबंदी की जाती है। कामबंदी के नियम अनुसार नियमित देय वेतन का 50 प्रतिशत वेतन का मुआवजे के बतौर भुगतान कामबंदी के दौरान दिया जाएगा।

क्या कहते है जिम्मेदार

कंपनी ने जो अचानक यह कार्रवाई की है, इसका हम विरोध करते हैं। आगामी बैठक में श्रमिकों भाइयों का मजबूत पक्ष रखेंगे ताकि मजदूरों से उनका हक और रोजगार न छीना जाए।

नरेंद्र पटेल, महामंत्री, भारतीय मजदूर संघ

हमारे पास डेनिम माल का बहुत ज्यादा स्टॉक है, साथ ही उक्त माल का कोई खरीददार भी नहीं है। अब ऐसी स्थिति में कंपनी क्या कर सकती है। कम्पनी ने जो भी कदम उठाया है वो नियमानुसार है।

अनिल दुबे, फैक्ट्री मैनेजर, सेंचुरी कम्पनी, ग्राम सत्राती

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???