Patrika Hindi News

गायत्री परिवार के प्रमुख प्रणव पंड्या ने दोस्तों के साथ कुछ यूं ताजा की यादें

Updated: IST dr pranav pandya chief of gayatri pariwar
एमजीएम मेडिकल कॉलेज की 1967 बैच की गोल्डन जुबली सेलिब्रेशन का आयोजन

इंदौर. 50 साल पुराने दोस्तों का साथ मिल जाए तो यादों का पिटारा खुल ही जाता है। बात मेडिकल कॉलेज की एल्युमिनाई मीट की हो तो किस्से और खास हो जाते हैं। ऐसे ही कई रोचक किस्से शुक्रवार को एमजीएम मेडिकल कॉलेज के ऑडिटोरियम में 1967 बैच की गोल्डन जुबली सेलिब्रशन में सुनाई दिए।

1967 बैच के स्टूडेंट रहे प्रणव पंड्या अभी गायत्री परिवार के प्रमुख है। उन्होंने बताया, 'कॉलेज से जुड़ी बहुत सारी यादें आज कैंपस में कदम रखते ही ताजा हो गई। जब एजीएम में आया तब 16 साल का था। एमबीबीएस से एमडी तक के सफर के दौरान 9 साल इसी कैंपस में गुजारे। पढ़ाई में डूबे रहने के कारण कभी ज्यादा शरारतों में शामिल नहीं हुआ। पढ़ाई के बाद फॉरेन जाने की ठानी। वीजा भी मिल गया, लेकिन गुरुजी ने इनकार कर दिया तो नहीं गया।

यह भी पढ़ें:- इंदौर में होगा सार्क सम्मेलन, 6 देशों के स्पीकर मालवा की परंपरा-विरासत से भी होंगे रूबरू

इसके बाद 'भेल' भोपाल ज्वाइन किया और कुछ महीनों बाद हरिद्वार चला गया। वहां साइंस और स्प्रिचुएलटी को लेकर रिसर्च की। धीरे-धीरे सक्सेस मिलती गई और लोग जुड़ते गए। मैंने महसूस किया कि स्प्रिचुएलटी और साइंस का कॉम्बीनेशन समाज के लिए मददगार साबित हो सकता है। ध्यान ऐसी क्रिया है जो मनुष्य को रिचार्ज करती है।

शुरुआत में शिक्षकों का सम्मान

इस री-यूनियन की शुरुआत सबसे पहले टीचर्स के सम्मान के साथ हुई। डॉ. गिरीश सिपाहा, डॉ. केएल बंडी, डॉ. कुमद भगवात, डॉ. केसी खरे, डॉ. एलएस शर्मा, का सम्मान किया गया।

यह भी पढ़ें:- आंबेडकर स्मारक की आधारशीला रखने महू आए थे पूर्व मुख्यमंत्री पटवा

dr pranav pandya chief of gayatri pariwar

हंगाामा बैच था नाम

1967 बैच के सुधीर भार्गव ने बताया, 'हमारी बैच को हंगामा बैच के रूप में जाना जाता था। हम फिल्में देखने ग्रुप में जाते थे और कई बार सीट्स न मिलने पर झगड़े भी हो जाते थे। इसके साथ ही हमने एक बार स्ट्राइक भी की। इस दौरान कैंपस के बाहर पैरेलल ओपीडी चलाई, ताकि मरीजों को प्रॉबलम न हो। बैच की एक मेंबर ने बताया, 'हम जूनियर्स की एक ट्रेन बनवाते, जिसमें आगे एक इंजन होता था और बाकी पूरी बैच उसे पकड़कर पीछे-पीछे चला करती थी।'

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???