Patrika Hindi News

मैच फिक्सिंग रोकने बीसीसीआई ने बनाया नियम, कैलाश विजयवर्गीय ने तोड़ा

Updated: IST kailash vijayvargiya
रणजी फाइनल में प्रतिबंधित क्षेत्र में गए कैलाश, एंटी करप्शन अधिकारी ने ली आपत्ति तो लौटे।

(टीम के साथ भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय।)

विकास [email protected]

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और इंदौर सभागीय क्रिकेट एसोसिएशन (IDCA) के अध्यक्ष कैलाश विजयवर्गीय ने गुरुवार को क्रिकेट जगत का एक ऐसा नियम तोड़ा जो कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड नी नजर में अपराध है। होलकर स्टेडियम में खेले जा रहे रणजी ट्रॉफी फाइनल मैच के दौरान वह उस प्रतिबंधित क्षेत्र में अपने साथियों के साथ गए जहां पर जाने की इजाजत सिर्फ दोनों टीमों के खिलाड़ी और मैच ऑफिशियल्स को ही होती है।

कैलाश के साथ विधायक रमेश मेंदोला, एमआईसी सदस्य चंदू-शिंदे और कुछ अन्य लोग भी पीएमओए (प्लेयर्स एंड मैच ऑफिशियल्स एरिया) में गए। इस क्षेत्र में मैच के दौरान एमपीसीए के पदाधिकारियों को भी की इजाजत नहीं है। कैलाश-रमेश सहित अन्य लोगों के तीसरे दिन लंच के समय पीएमओए में जाने की घटना पर बोर्ड के एंटी करप्शन यूनिट के अधिकारी अंशुमन उपाध्याय ने भी आपत्ति ली है। संभवतः वे इसकी जानकारी बोर्ड को भी देंगे।

kailash vijayvargiya3
(अमित शाह के बेटे जय शाह से मुलाकात करते हुए कैलाश विजयवर्गीय।)

अमित शाह के बेटे से मिलने पहुंचे

मैच देखने इंदौर आए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के बेटे और गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के सहसचिव जय शाह से मिलने पहुंचे कैलाश-रमेश सहित उनके साथी लंच के समय स्टेडियम पहुंचे। शाह को ढूंढते वे पीएमओ एरिया पहुंचे। गार्ड द्वारा रोकने के बाद भी वे अंदर चले गए। उन्हें अंदर जाते देख एमपीसीए के पदाधिकारी घबरा गए। सभी के ड्रेसिंग रूम की ओर जा रहे थे तभी सह सचिव संदीप मुंगरे ने उन्हें रोका। इसके बाद दोनों ड्रेसिंग रूम के बीच के रास्ते से बाहर लाए। सभी के बाहर जाने के बाद एंटी करप्शन यूनिट के अफसर ने आपत्ति ली। मिली जानकारी के अनुसार मैच रेफरी से भी इसकी शिकायत की गई।

मैच फिक्सिंग रोकने के लिए बनाई गई है व्यवस्था

भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने सभी घरेलू टूर्नामेंट में मैच फिक्सिंग रोकने के लिए पीएमओए बनाने की व्यवस्था की अनिवार्यता कर दी है। मैच और स्पॉट फिक्सिंग के मामले आने के बाद सुरक्षा और भ्रष्टाचार मुक्त क्रिकेट करने के लिए बोर्ड ने यह फैसला लिया है। पीएमओए पूरी तरह कैमरे की नजर में रहता है। मैच के दौरान स्टेडियम में किसी भी अनाधिकृत व्यक्तियों को खिलाड़ी से मिलने या उनके आसपास जाने की इजाजत नहीं होती है।

PMOA
(इस प्रतिबंधित क्षेत्र में पहुंचे थे कैलाश विजयवर्गीय।)

इन्हें होती जाने की अनुमत

मैच के दौरान पीएमओए में सिर्फ दोनों टीमों के खिलाड़ी, अंपायर, मैच रैफरी, टीमों के लोकल मैनेजर, ड्रेसिंग रूम इंचार्ज और एंटी करप्शन अधिकारी के इजाजत से अन्य कोई को इस प्रतिबंधित क्षेत्र में प्रवेश करता है।

> आईडीसीए अध्यक्ष कैलाश विजयवर्गीय या अन्य कोई व्यक्ति पीएमओ एरिया में गए इसकी मुझे जानकारी नहीं है, लेकिन मैच के दौरान उस क्षेत्र में किसी भी अनाधिकृत व्यक्ति को प्रवेश की इजाजत नहीं होती है।
मिलिंद कनमड़ीकर सचिव एमपीसीए

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???