Patrika Hindi News

बिहार और पश्चिम बंगाल से लाए थे बाल मजदूर, 100 मासूमों को करवाया मुक्त

Updated: IST child labour
मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में जिला प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई करते हुए करीब 100 बाल श्रमिकों को मुक्त कराया है।

(एसडीएम शालिनी श्रीवास्तव बच्चों को मुक्त कराती हुईं।)

इंदौर। मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में जिला प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई करते हुए करीब 100 बाल श्रमिकों को मुक्त कराया है। सभी बच्चों को बिहार से इंदौर मजदूरी कराने के लिए लाया गया था। बच्चों ने बताया कि उन्हें रोजाना 20 से 25 रुपए के हिसाब से मजदूरी दी जा रही थी।

एसडीएम शालिनी श्रीवास्तव ने श्रम विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग और पुलिस के साथ मिलकर संयुक्त रूप से कार्रवाई करते हुए 100 से ज्यादा बच्चों और किशोरों को मुक्त करवाया। शहर के मोती तबेला और मिल्लत नगर में बैग बनाने के के कारखानों में बच्चों द्वारा काम करवाया जा रहा था। मिली जानकारी के अनुसार यहां पर कारखानों में 10 से 16 साल तक के बच्चों को मजदूरी करवाने के लिए दूसरे राज्यों से लाया गया था। जब प्रशासन की टीम यहां पहुंची तब बच्चों से अमानवीय हालत में काम करवाया जा रहा था। बच्चे छोटे-छोटे कमरों में काम कर रहे थे।

छोटे-छोटे कमरों में रहने को मजबूर बचपन

इन बच्चों को बैग बनाने का काम दिया गया था। छोटे-छोटे कारखानों के कमरों में उन्हें वहीं काम करना पड़ता था और उसी जगह पर रहना सोना पड़ता था। सभी बच्चों के परिवार से संपर्क करने की कोशिश की जा रही है।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???