Patrika Hindi News

युद्ध में चीन को इस फौजी ने चटाई थी धूल, देश में नहीं मिल पा रहा हक

Updated: IST soldier who fight for indo china war
सरकार ने सैनिकों के कल्याण के लिए जमीन देने की घोषणा की थी, इसी आदेश का हवाला देकर नरसिंह ने जमीन की मांग की है।

इंदौर. 1962 में भारत ने चीन के साथ महत्वपूर्ण युद्ध लड़ा था। इस युद्ध के जाबांज फौजी नरसिंह गंगाराम बरसों बाद प्रशासन से अपना हक मांग रहे हैं।

दरअसल, आजादी के बाद मध्यप्रदेश शासन ने हर फौजी को 8 बीघा जमीन खेती के लिए पट्टे पर देने का फैसला किया था। 54 साल पुराने इसी आदेश का हवाला देकर नरसिंह ने जमीन की मांग की है। आजादी के बाद राज्य शासनों के सैनिकों को भारत सरकार ने अपनी सेना में शामिल कर लिया था। इस दौरान प्रदेश शासन ने फौजियों को पट्टे पर जमीन देने का फैसला किया था। इसी आदेश को आधार बनाकर कलेक्टर की अदालत में होलकर आर्मी और हैदराबाद फील्ड इन्फेंट्री के स्पेशल आरक्षक नरसिंह पिता गंगाराम ने आवेदन लगाया है।

यह भी पढ़ें:- FB पर प्यार, PAK लड़के ने INDIA आकर की शादी, अब सालाखों के बीच होते हैं दीदार

इंदौर रियासत के सैनिक

उनका कहना है कि मध्यप्रदेश शासन द्वारा 20 नवंबर 1963 से किए गए संशोधन अनुसार मध्यप्रदेश स्पेशल आम्र्ड फोर्स से रिटायर्ड फौजियों को 8 बीघा जमीन खेती के लिए पट्टे पर दी जाना है। नरसिंह का कहना है कि वे भूतपूर्व इंदौर रियासत में सैनिक थे और भारत स्वतंत्र होने के बाद उनकी सेवा स्पेशल आम्र्ड फोर्स में स्थानांतरित की गई। इसका प्राथमिक कार्यालय हैदराबाद फील्ड इन्फेंट्री में था। जिला पुलिस अधीक्षक इंदौर के अधीनस्थ प्रदेश शासन का सेवक मानकर 31 जनवरी 1980 को सेवानिवृत्त किया गया। शासन के राजपत्र में हुए संशोधन की जानकारी नहीं थी जिसकी वजह से आवेदन पेश नहीं कर पाया।

यह भी पढ़ें:- पंचकल्याण महोत्सव में जैन समाज की अनूठी पहल, पीएम मोदी को ऐसे कर रहे सपोर्ट

कईयों को मिली थी जमीन

उस समय कई फौजियों को जमीन मिली थी। नरसिंह के आवेदन को इंदौर तहसीलदार चरणजीतसिंह हुड्डा के पास जांच के लिए भेजा गया ताकि वे राजपत्र और बाद में उसके संशोधनों की जांच करें। उसके बाद तय होगा कि नरसिंह को जमीन मिल सकती है या नहीं?

यह भी पढ़ें:- इंदौर में सक्रिय था आईएसआई का जासूस ध्रुव, कई सफेदपोशों से संपर्क!

soldier who fight for indo china war

आसान नहीं है जमीन मिलना

गौरतलब है कि भूतपूर्व सैनिकों को सरकार ने पूर्व में जमीन दी थी लेकिन अब आवंटन करना आसान नहीं है। जिले में तेजी से हुई बसाहट और सरकारी योजनाओं के उपयोग में आने की वजह से जिला प्रशासन के पास ही बहुत कम जमीन है। सरकार समय पर योजना के लिए जमीनों की जानकारी मांगती है लेकिन प्रशासन नहीं दे पाता।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???