Patrika Hindi News

Wipro ने अप्रेजल के समय निकाले 600 कर्मचारी, 2 हज़ार तक निकालने की आशंका

Updated: IST Wipro sacks 600 employee post performance appraisa
भारत की मशहूर सॉफ्टवेयर कंपनी विप्रो ने अपने कर्मचारियों को बड़ा झटका दिया है। विप्रो ने अप्रेजल से पहले ही 600 कर्मचारियों को बाहर निकाला है।

नई दिल्ली: भारत की मशहूर सॉफ्टवेयर कंपनी विप्रो ने अपने कर्मचारियों को बड़ा झटका दिया है। विप्रो ने अप्रेजल से पहले ही सैकड़ों कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया हैं। सूत्रों के मुताबिक, कंपनी ने 600 कर्मचारियों को बाहर निकाला है। खबर है कि यह संख्या 2,000 तक जा सकती है। दिसंबर 2016 के आखिरी में कंपनी के नाम 1.79 लाख कर्मचारी थे। जब कंपनी से संपर्क किया गया, तो जवाब मिला, इस बार प्रदर्शन के आधार पर अप्रेजल की प्रक्रिया कठिन थी। साल दर साल यह संख्या घट और बढ़ भी सकती है। हालांकि, कंपनी ने निकाले गए कर्मचारियों पर कोई टिप्पणी नहीं की।

प्रदर्शन आकने की प्रक्रिया कठिन-कंपनी
विप्रो ने कहा कि उसके प्रदर्शन आकने की प्रक्रिया में मेंटरिंग, री-ट्रेनिंग जैसे पहलू शामिल हैं। कंपनी की चौथे क्वॉर्टर की रिपोर्ट और पूरे साल के आंकड़े 25 अप्रैल को आएंगे।

आईटी प्रोफेशनल्स के लिए बुरा दौर
दरअसल इन दिनों भारतीय आईटी प्रोफेशनल्स के लिए अमरीका, सिंगापुर, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड जैसे देशों के वर्कर वीजा नियमों में व्यापक बदलाव किए जा रहे हैं।कंपनियां कर्मचारियों को क्लाइंट की साइट पर भेजने के लिए अस्थायी वर्क वीजा का इस्तेमाल करती हैं।इन देशों में वीजा नीति के पहले से ज्यादा सख्त होने जाने के चलते आईटी कंपनियां चुनौती महसूस कर रही हैं।
उत्तरी अमरीका में भारतीय आईटी कंपनियां का दबदबा
बता दें कि भारतीय आईटी कंपनियां का 60 प्रतिशत से ज्यादा उत्तरी अमेरिका में दखल है। इसके अलावा 20 प्रतिशत यूरोप से और बाकी अन्य जगहों से कंपनियां पैसे जुटाती है।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???