Patrika Hindi News

Photo Icon संजीवनी बनकर उभरा फार्मेसी, इंजीनियरिंग में सीटें भरने के लाले

Updated: IST Pharmacy Studies-1
बीई में 30 प्रतिशत तो फार्मेसी में 70 प्रतिशत दाखिले पहले चरण में

जबलपुर। इंजीनियरिंग की आेर से युवाओं का रुझान घट रहा है, वहीं फार्मेसी विषय की ओर युवाओं की रुचि बढ़ रही है। इसका अंदाजा इंजीनियरिंग और फॉर्मेंसी में पहले राउंड में भरी गई सीटों के हिसाब से लगाया जा सकता है। शहर के प्राइवेट इंजीनियरिंग कॉलेजों की बात की जाए तो पहले राउंड में तकरीबन 30 प्रतिशत ही दाखिले हुए, वहीं गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज में पहले राउंड में 65 प्रतिशत तक सीटें भर गईं। इसके उलट फार्मेसी कोर्स में पहले ही राउंड में 70 प्रतिशत से अधिक सीटें भर गईं। क्या इंजीनियरिंग करने की ओर युवाओं का रुझान घट रहा है या फार्मेसी जैसे विषय पर युवाआें की नजरें दौड़ रही हैं? इंजीनियरिंग की सीटें पूरी तरह शहर में भर नहीं पा रही हैं। कई कॉलेज सरेंडर कर चुके हैं, वहीं फार्मेसी के लिए इस साल एक नया कॉलेज ओपन हो गया है।

दूसरे चरण की लिस्ट आई
फार्मेसी की दूसरी चरण की लिस्ट सोमवार को आई। प्रदेश स्तर की बात की जाए तो सेकंड राउंड में सवा तीन हजार सीटें अलॉट हुई। एक प्राइवेट कॉलेज को छोड़ सभी कॉलेजों में ज्यादातर सीटें भर चुकी हैं।

फार्मेसी में बढ़ रहा कॅरियर ऑप्शन
गवर्नमेंट पॉलीटेक्निक कॉलेज की डॉ. सीमा कोहली ने बताया कि पिछले तीन सालों में फार्मेसी करने वालों की संख्या बढ़ी है। पहले राउंड में ही बहुत सारे एप्लिकेशन आए और उन्हें तुरंत ही सीटें अलॉट कर दी गईं। तकरीबन 70 प्रतिशत सीटें पहले राउंड में ही भर गईं। नेशनल हैल्थ मिशन द्वारा जॉब ऑफर निकाले जा रहे हैं। इस कारण युवाओं का रुझान इस ओर बढ़ रहा है। इसी रुझान को देखते हुए इस बार शहर में श्रीरावतपुरा सरकार कॉलेज ने फॉर्मेसी कोर्सेज शुरू कर दिए हैं।

इंजीनियरिंग
7820 सीटें बीई की शहर के इंजी. कॉलेजों में
19 इंजीनियरिंग कॉलेज हैं शहर में कुल
30 प्रतिशत सीटें ही भरी हैं प्राइवेट इंजीनियरिंग कॉलेजों में

फार्मेसी
05 कॉलेज बी फार्मा के शहर में
330 बीफॉर्मा की कुल सीटें
217 सीटें भरी गई पहले राउंड में
03 कॉलेज डी फार्मा के शहर में
170 सीटें डी फार्मा की शहर में
60 सीटें कलानिकेतन पॉलीटेक्निक कॉलेज में

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???