Patrika Hindi News

दर्दनाक मौत: सूदखोरों ने निर्वस्त्र कर वृद्ध की छाती पर पटक दिया पत्थर

Updated: IST death
कांचघर नई बस्ती निवासी मुकेश चौधरी ने बताया कि उसके पिता जगदीश चौधरी (55) सब्जी का ठेला लगाते थे।

जबलुपर। सूदखोरों ने एक व्यक्ति को घर से घसीटकर बाहर निकाला। निर्वस्त्र कर उसके सीने पर पत्थर पटक दिया। गम्भीर चोटें आने पर घायल को मेडिकल अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां शुक्रवार को उसने दम तोड़ दिया। मृतक के परिजन और करीबियों ने आरोप लगाया कि घमापुर पुलिस का आरोपितों को संरक्षण है। इससे पुलिस ने आरोपितों पर मामूली धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज किया। शनिवार को शव को पीएम होगा। प्रदर्शन खत्म कराने के लिए पुलिस और प्रशानिक अधिकारी मौके पर पहुंचे। अधिकारियों की समझाइश के बाद भी जब प्रदर्शनकारी नहीं मानें तो पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा। पुलिस पर भी पथराव किया गया है।

ये है मामला
कांचघर नई बस्ती निवासी मुकेश चौधरी ने बताया कि उसके पिता जगदीश चौधरी (55) सब्जी का ठेला लगाते थे। आर्थिक तंगी के चलते पिता ने चंचल झा और चेतन से तीन हजार रुपए 10 प्रतिशत मासिक ब्याज पर उधार लिए थे, जिसका ब्याज वह चुका रहा था। 1 जनवरी को चेतन और चंचल उसके घर पहुंचे। दोनों ने जगदीश से 10 हजार रुपए की मांग की।

जगदीश ने इतनी बड़ी रकम देने से इनकार किया, तो आरोपित उन्हें घसीटते हुए बाहर ले गए। अपशब्द कहते हुए दोनों ने जगदीश को निर्वस्त्र किया और जूते से मारने लगे। उसके बाद सीने पर पत्थर पटक दिया। जगदीश को गंभीर चोटें आई। इस दौरान वहां डायल 100 पहुंची, तो आरोपित भाग गए। जगदीश को गंभीर अवस्था में विक्टोरिया अस्पताल ले जाया गया, जहां से मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया, जहां शुक्रवार को उन्होंने दम तोड़ दिया।

सूदखोरों का जाल
प्रवीण गजभिये, रामचरण साकेत, विनय बौद्ध, महेन्द्र, अनुज आदि ने आरोप लगाया कि वारदात के बाद घमापुर पुलिस ने आरोपितों पर मामूली धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज किया। उनका यह भी आरोप है कि सूदखोरों ने पूरे इलाके में जाल फैला रखा है। वे 10 से 20 प्रतिशत मासिक ब्याज पर रुपए उधार देते हैं। यदि कोई ब्याज चुकाने या मूलधन देने में देरी करे, तो आरोपित उस पर हमला तक करते हैं। पीडि़तों ने कई बार आरोपितों की शिकायत घमापुर थाने में की, लेकिन पुलिस ने शिकायत को ठंडे बस्ते में डाल दिया।

पुलिस ने किया बल प्रयोग
कांचघर चौक पर चल रहे चक्काजाम को खत्म कराने पुलिस ने प्रदर्शनकारियों से बातचीत करनी चाही। समझाइश के बाद प्रदर्शन को बंद करने कहा, लेकिन प्रदर्शनकारी नहीं मानें। इस पर पुलिस ने बल प्रयोग किया। प्रदर्शनकारियों की तरफ से भी किया पुलिस पथराव किया गया।

इनका कहना है
जगदीश की रिपोर्ट पर आरोपितों के खिलाफ मारपीट और कर्जा एक्ट समेत एससीएसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था। जगदीश की मौत हो गई है। मामले में धाराएं बढ़ाई जाएंगी।
-दिलीप श्रीवास्तव, थाना प्रभारी, घमापुर

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???