Patrika Hindi News

> > > > arears below 10 thousand rupees, line will be cut

रडार पर 10 हजार से कम बकाया वाले, अब सीधे कटेगी बिजली

Updated: IST two years of Rajghat electricity bill, 8 million r
कुर्की के बजाय ट्रांसफॉर्मर से सप्लाई बंद करने के साथ काटी जाएगी केबल

जबलपुर। बिजली के बड़े डिफाल्टरों के खिलाफ कुर्की के अभियान को मिली सफलता के बाद अब 10 हजार रुपए से कम बकाया वाले उपभोक्ता निशाने पर हैं। ग्रामीण क्षेत्र में एेसे 3435 उपभोक्ताओं को चिह्नित किया गया है। इन पर कुल 124 लाख रुपए बिजली बिल बकाया है। विभाग ने सभी बकायादारों की सप्लाई लाइन काटने के निर्देश दिए हैं।
बिजली के बड़े बकायादारों के खिलाफ एक नवंबर से कुर्की की कार्रवाई का अभियान चलाया जा रहा था। इसमें बकायादारों की सम्पत्ति कुर्क की जा रही थी। इसका असर ये रहा कि 23 नवंबर तक कुल 1288 लाख रुपए की वसूली हुई। जबकि पिछले साल इसी अवधि में 788 लाख रुपए वसूले गए थे। ग्रामीण अधीक्षण अभियंता एके पांडे ने बताया कि जबलपुर आसपास संभाग में सबसे अधिक 636 लाख, पाटन में 310 और सिहोरा में 342 लाख रुपए की वसूली हुई। टीसी कनेक्शन देने में भी सफलता मिली है। एक अक्टूबर से 23 नवंबर तक 1655 कनेक्शन दिए गए। इसके एवज में 121 लाख रुपए मिले। जबकि इसी अवधि में पिछले साल 1167 कनेक्शन के एवज में 70 लाख रुपए ही मिले थे।

किसानों ने भी दिखाई दरियादिली
-जबलपुर आसपास- 3667 किसान,159 लाख जमा राशि
-पाटन में- 5508 किसान, 266 लाख जमा राशि
-सिहोरा में- 12206 किसान, 213 लाख जमा राशि

नई सुविधाओं का मिला लाभ
पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने उपभोक्ताओं की सुविधा के लिए इस बार एमपी ऑनलाइन और पोस्ट ऑफिसों में भी बिल जमा करने की सुविधा शुरू कराई थी। इस सुविधा के तहत एमपी ऑनलाइन में 4938 लोगों ने 26 लाख रुपए का बिल जमा किया। पोस्ट ऑफिसों में 7345 लोगों ने 34 लाख रुपए जमा किए।

10 हजार तक बकाया वाले उपभोक्ता
472 बरेला
177 भेड़ाघाट
182 कटंगी
254 मझौली
893 पनागर
669 पाटन
791 शहपुरा

पाटन में
पिछले साल 348 टीसी कनेक्शन पर 30 लाख, अभी 467 टीसी कनेक्शन पर 44 लाख

सिहोरा में
पिछले साल 221 टीसी कनेक्शन पर 34 लाख, अभी 549 टीसी कनेक्शन पर 37 लाख

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???