Patrika Hindi News

Photo Icon सिर्फ इन खास दिनों में दिखाई देती है ये जंगल की आग, वेदों में भी उल्लेख

Updated: IST palash
गहरे लाल और सफेद रंग के ये पुष्प जितने चटक रंग के होते हैं उतने ही फायदेमंद भी।प्राचीन काल से होली के रंग इसके फूलों से तैयार किये जाते रहे हैं।

जबलपुर। वसंत माह और पलाश के फूल, मौसम के साथ ही वादियां पलाश के फूलों से भर गई हैं। गहरे लाल और सफेद रंग के ये पुष्प जितने चटक रंग के होते हैं उतने ही फायदेमंद भी। इसका हर एक पत्ता उपयोगी है। ना सिर्फ औषधिय रूप से बल्कि, धार्मिक रूप से भी...

पलाश (पलास, परसा, ढाक, टेसू, किंशुक, केसू) एक वृक्ष है जिसके फूल बहुत ही आकर्षक होते हैं। इसके आकर्षक फूलों के कारण इसे जंगल की आग भी कहा जाता है। प्राचीन काल ही से होली के रंग इसके फूलों से तैयार किये जाते रहे हैं।

पवित्र ग्रंथों में उल्लेलख
यह वृक्ष हिंदुओं के पवित्र माने हुए वृक्षों में से हैं। इसका उल्लेख वेदों तक में मिलता है। होली के लिए रंग बनाने के अलावा इसके फूलों को पीसकर चेहरे में लगाने से चमक बढ़ती है। पलाश की फलियां कृमिनाशक का काम तो करती ही हैइसके उपयोग से बुढ़ापा भी दूर रहता है। पलाश फूलों के पानी से स्नान करने से ताजगी महसूस होती है और लू नहीं लगती साथ ही गर्मी का भी अहसास नहीं होता।

पलाश में ये है गुण
इसकी जड़ों में खुजली और एक्जीमा खत्म करने का गुण हैं। बीज में पाइल्स, सर्दी, खासी और जुकाम खत्म करने के गुण हैं। फूलों की पत्तियां डायबीटिज व त्वजा रोग खत्म करने में सक्षम हैं। विशेषज्ञों के अनुसार रिसर्च में इसमें औषधिय गुणों का होना पाया गया है। कई ऐसी बीमारियां हैं जिन्हें पलाश खत्म कर सकता हैं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???