Patrika Hindi News

Photo Icon
 BJP राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह बोले, नहीं भुला सकते गुरु गोविन्द सिंह का बलिदान

Updated: IST
शिवाजी मैदान में आयोजित हुआ जयंती उत्सव, सीएम शिवराजसिंह भी हुए शामिल

जबलपुर।गुरू गोविंद सिंह ने 9 साल की उम्र में पिता गुरू तेगबहादुर को हिन्दुओं की रक्षा के लिए बलिदान देने प्रेरित किया। 4 बेटों का बलिदान दिया। जीवन में उन्होंने जितने कर्म किए कोई और करे तो उसे सौ जन्म लेने होंगे। ईश्वर भी इतने बहुआयामी व्यक्तित्व का धनी किसी एक को बनाता है। उनके जैसा वीर बलिदानी योद्धा हजारों साल में कोई एक होता है। यह बात भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को शिवाजी मैदान सदर में 10 वें गुरू के प्रकाश पर्व में कही। उन्होंने कहा गुरू गोविंद ने देश सेवा, त्याग और बलिदान की जो मिसाल पेश की वह हजारों साल लोगों के लिए प्रेरणास्पद होगी।

amit shah

बृजभाषा को बनाया शुद्ध

गुरू गोविंद ने 350 साल पहले जो प्रकाश फैलाया उसकी चकाचौंध आज भी वैसी ही है। उन्होंने खालसा पंथ का जो बीज बोया आज वो वट वृक्ष बन गया और देश का दुनिया को प्रकाश दे रहा है। अफगानिस्तान से दिल्ली तक खालसा पंथ की स्थापना कर देश को बचाने जो काम उन्होंने किया।10 गुरुओं की गुरुवाणी को शब्द दिए। एकता-अखंडता के लिए पंच प्यारे देश से हर जाति वर्ग से साथ लेकर काम किया। वे उस जमाने के बड़े कवि थे। उन्होंने संस्कृत, बृज, गुरुमुखी, फारसी, उर्दू में उन्होंने साहित्य लिखा। इतना ही नहीं बृजभाषा का शुद्धिकरण किया।

इन शब्दों के राजनीतिक मायने

भाजपा की राज्यों व केन्द्रों में सरकार ने देश के हर कोने में 350 वां साल मनाने सरकारी तौर पर निर्णय लिया। मैं कमेटी का सदस्य हूं ये सौभाग्य है। गुरू से जुडे सभी स्थलों का पुनरुद्धा व उनके संदेशों का प्रचार-प्रसार होगा। केन्द्र सरकार ने 100 करोड़ रुपए निर्धारित किए हैं। आज संगत के दर्शन के लिए ही यहां आया। देश अन्न के लिए स्वावलंबी हुआ तो उसका श्रेय पंजाब के सिख बंधुओं को जाता है। अन्न के भंडार भर दिए। देश सीमाओं की रक्षा के लिए सबसे ज्यादा शहादत सिख वीरों के ही हिस्से में है।

amit shah

मंत्री का फोटो हुआ वायरल

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार चौहान के साथ एयरपोर्ट के लाउंज में महिला विधायकों के बीच बैठे मंत्री शरद जैन का फोटो वायरल हुआ है। रविवार को लिया गया यह फोटो चर्चा का विषय बना हुआ है। हालांकि इस सम्बन्ध में मंत्री शरद जैन का कहना है कि जगह के अभाव के कारण उन्हें मजबूरी में एेसे बैठना पड़ा। वहां पर सभी परिवार जैसे सदस्य थे।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???