Patrika Hindi News

दस साल से नहरों में नहीं आया पानी, रखरखाव पर लाखों खर्च

Updated: IST nahar 2
पानी देने के नाम पर जिले के हजारों किसानों से किया छलावा, अब किया जा रहा सुधार कार्य

नरसिंहपुर। नहरों के नाम पर फर्जीवाड़े का सिलसिला लगातार जारी है। जिले की कई नहरों में दस साल से पानी नहीं आया तो कई नहरें अभी तक अधूरी पड़ी हैं पर उनके रखरखाव और पानी प्रवाहित करने के नाम पर रानी अवंती बाई लोधी सागर परियोजना के अफसरों ने कराड़ों रुपये खर्च कर दिए। मामला देवाकछार माइनर नहर का है जिसमें 2003 से अभी तक पानी की एक बूंद नहीं आई पर कागजों में इसमें 183 हेक्टेयर में पानी देना बताया गया है।

nahar 1
फाइलों में बह रहा है पानी

जिला मुख्यालय से तीन किलो मीटर की दूरी पर स्थित इस नहर से आज तक किसी किसान को कोई फायदा नहीं हुआ। इसी तरह ग्राम नंदवारा और राम पिपरिया के सैकड़ों किसानों को आज तक पानी नहीं मिला पर नहर परियोजना के रिकार्ड में इनमें पानी की सप्लाई बताई गई है। रानी अवंती बाई लोधी डिस्नेट संभाग नरसिंहपुर अंतर्गत कुमंडी नहर, सुरगी माइनर नहर, मैनावारी पिपरिया माइनर नहर, बम्होरी नहर, कौडिया नहर, करकबेल नहर, करेली माइनर नहर, निवारी नहर, गोबरगांव नहर, पनारी नहर, बटसेरा नहर आदि से किसी भी किसान को एक बूंद पानी नहीं मिल पर सरकारी रिकार्ड में इनमें से पानी बह रहा है।

मरम्मत के नाम पर दिए एक करोड़ रुपए

विभाग ने एक ओर जहां नहरों में पानी नहीं दिया वहीं दूसरी ओर इनके रखरखाव के नाम पर करीब एक करोड़ का खर्च दिखाया गया है। सूचना के अधिकार के तहत प्राप्त की गई जानकारी के अनुसार करीब 300 संथाओं को रखरखाव के नाम पर करीब एक करोड़ का भुगतान किया गया है, जबकि ये नहरें जर्जर हालत में हैं और कुछ तो अधूरी पड़ी हुई हैं, जिनमें से पानी बहने और रखरखाव होने का सवाल ही नहीं उठता। इन जल उपभोक्ता संथाओं में कुटरी, इमलिया, वेदू, बम्हनी, गुंदरई, मगरधा, बेलखेड़ा, तिंदनी, घुवघट, लुरहटा, बागपोड़ी सहित सैकड़ों संथाएं शामिल हैं। इस मामले में प्रशासन ने आरटीआई एक्टिविस्ट अभय वनगात्रि की शिकायत के बाद जांच शुरू की है। जांच के बाद विभाग ने उन माइनर नहरों का रखरखाव शुरू किया, जिनका निर्माण दस साल पहले दिखाया गया था और जो बुरी तरह जर्जर हो चुकी थीं।

इनका कहना है

नहरों में गड़बड़ी और भ्रष्टाचार को लेकर शिकायत प्राप्त हुई थी जिस पर एसडीएम को जांच के लिए निर्देशित किया गया था। एसडीएम का ट्रांसफर हो जाने के कारण जांच कार्य प्रभावित हुआ पर जांच जारी रहेगी।
डॉ.आरआर भोंसले, कलेक्टर

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???