Patrika Hindi News

> > > > Felsiferm malignant malaria is scare, to kill the larvae of fish Mngaange

Photo Icon  मलेरिया से निपटने मछलियों का सहारा, सिवनी से आएंगी मछलियां

Updated: IST continues to play malaria month formality
गम्बूसिया मछलियों का सहारा लेगामलेरिया विभाग

जबलपुर। मच्छर जनित बीमारियों पर नियंत्रण करने के लिए मलेरिया विभाग लार्वा खाने वाली गम्बूसिया मछलियों का सहारा लेगा। सिवनी जिले से डेढ़ लाख मछलियां मंगाई जा रही हैं। इन्हें ज्यादा प्रभावित क्षेत्रों के जलस्रोतों में छोड़ा जाएगा।

maleriya

इस बीच जिले में फेल्सीफेरम मलेरिया के बढ़ते आकड़ों ने विभाग के होश उड़ा दिए हैं। कुंडम, पनागर, शहपुरा के जिन क्षेत्रों में फेल्सीफेरम मलेरिया के मरीज मिले हैं, उन क्षेत्रों में एेसे जलस्रोत चिह्नित किए जा रहे हैं, जहां मछलियां छोड़ी जाएंगी। डॉक्टरों के अनुसार फेल्सीफेरम मलेरिया में मरीज कोमा में चला जाता है। ये जानलेवा बीमारी मानी जाती है। 2015 में कम बारिश हुई थी और 83 लोग फेल्सीफेरम मलेरिया की चपेट में आए थे। इस बार मरीजों का आकड़ा 59 पहुंच गया है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे