Patrika Hindi News

यहां राशन दुकानों में मिल रहा घटिया चावल

Updated: IST Sand, gravel and Stone found in PDS Rice
जांच रिपोर्ट के बाद भुगतान रोकने व मिलर्स को ब्लैक लिस्टेड करने की अनुशंसा

जबलपुर।जिले में प्रदाय योजना के तहत राशन दुकानों से हितग्राहियों को दिया जाने वाला चावल जांच में घटिया पाया गया। शिकायत के बाद नागरिक आपूर्ति निगम (नान) द्वारा जांच कराई गई। रिपोर्ट आने के बाद सभी 10 मिलों को चावल अपग्रेड करने के निर्देश दिए हैं। 2015-16 का भुगतान रोकने, मिलर्स को ब्लैक लिस्टेड करने की अनुशंसा की गई है। तीन अधिकारियों के निलंबन का प्रस्ताव भी भेजा गया है। जांच रिपोर्ट के अनुसार चावल में टूट का प्रतिशत 25 से ज्यादा नहीं होना चाहिए था, परंतु यह 44 प्रतिशत तक पाया गया। मामले में अघिकारियों के निलंबन की अनुशंसा की गई है।
नान जिला प्रबंधक की अनुशंसा पर कलेक्टर ने रिछाई केन्द्र के तत्कालीन प्रभारी जेपी मिश्रा व शहपुरा केन्द्र के प्रभारी पीसी नाग व पाटन केन्द्र के प्रभारी शगुन लोधी के निलंबन का प्रस्ताव शासन को भेजा है।

टूट का प्रतिशत ज्यादा
जांच अधिकारी ने बताया कि जांच में वरुन राइस मिलर्स के पाटन स्थित गोदाम में चावल की गुणवत्ता 29.2 प्रतिशत, सिंघई राइस मिल, सिंघई राइस मिल स्टेक के गोदाम में 12.44, सिंघई राइस मिल पाटन में 26, सिंघई वेयर हाउस, अर्श इंडस्ट्रीज के रिछाई गोदाम में 32, मंगलम राइस मिल के पाटन गोदाम में 40.5, प्रेमचन्द्र ट्रेडस मिलर्स के करारी गोदाम में 33, करारी स्थित जी इंडस्ट्रीज मिलर्स व शाह जी मिलर्स के गोदाम में क्रमश: 43, 34, सांईनाथ एग्रो मिलर्स के रिछाई गोदाम में चालव की गुणवत्ता 36 प्रतिशत मिली।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???