Patrika Hindi News

Video Icon यहां कॉरिडोर में बन रहा खाना, सड़क पर हो रही पार्किंग, देंखे वीडियो...

Updated: IST Kitchen in coridor
सिविक सेंटर के कॉरीडोर में लग रहा 'तड़का', कॉरीडोर में किचिन-सड़क पर पार्किंग, लोगों की वॉकिंग की हैक, सड़क पर चल रहे खरीदार, नगर निगम अनजान

बाजार करने में जिस जगह पर पैदल चलकर धूप, पानी से बचा जाता है। इस कॉरीडोर पर अब खाना बनाने वाले तेज-तीखे मसालों का तड़का लगाकर भोजन परोस रहे हैं। मुफ्त के मिले इस कॉरीडोर पर कब्जा कर लिया है, इससे आम ग्राहक सड़क से गुजर रहे हैं। सड़क पर ही वाहनों की पार्किंगहो रही है। ये हालत है सिविक सेंटर की। जानकारों का कहना है कि यहां पर एक को देखकर अन्य लोगों ने अपनी दुकानों के सामने कॉरीडोर को हथिया लिया है। सिविक सेंटर के कॉरीडोर की हकीकत उजागर करती एक्सपोज की लाइव रिपोर्ट....।

जबलपुर। सिविक सेंटर की उंची इमारतों के नीचे बने कॉरीडोर हैक कर लिए गए हैं। दुकानों से लगे कॉरीडोर बनाने का उद्देश्य लोगों के आवागमन की सुविधाओं को देखते हुए किया था ताकि खरीदारी के समय ग्राहक को सड़क पर न आना पड़े और वह धूप-पानी से बच सके। बाजार के विकास के साथ इन कॉरीडोर पर लोगों का आवागमन था लेकिन समय के साथ यहां पर कब्जे शुरू हो गए। कब्जे इस तरह बढ़ते गए कि लोगों ने इसे अपनी जागीर समझते हुए अस्थाई रूप से यहां दुकानों के बीच हदबंदी की।

ये है हकीकत
पुरानी टॉकीज से लगी बिल्डिंग
पुरानी टॉकीज से लगी इस बिल्डिंग में तीन मंजिल हैं। प्रथम तल पर दुकानें हैं। दुकानों के सामने कॉरीडोर सड़क से उंचाई पर है। यहां पर लोग बाईक से लेकर दुकानों का सामान कॉरीडोर में रखते हैं, जिससे लोग कॉरीडोर का उपयोग पैदल चलने में नहीं कर पाते हैं।

बैंक के सामने भवन
बैंक भवन के सामने चार मंजिल के इस भवन में कॉरीडोर पर तो रेस्टॉरेंट वाले ग्राहकों के लिए कुर्सी-टेबिल जमाए हुए हैं। यहां तक कि इस बिल्डिंग के किनारे भट्टी भी लगाकर रखे हुए हैं। इससे सड़क पर ग्राहक चलते हैं और वाहनों की पार्र्किंग भी सड़क पर होती है।

Kitchen in coridor

बैंक के समानांतर इमारत
बैंक के समानांतर दो बिल्डिंग हैं। चार मंजिल की इन बिल्डिंगों की हालत सबसे ज्यादा खराब है। यहां खोमचे वालों से लेकर रेस्टॉरेंट चलाने वालों ने किचिन बना रखा है। कॉरीडोर में ही व्यंजन बनाए जाते हैं। गंदगी फैलाई जाती है। शाम होते ही यहां रेस्टॉरेंट की कुर्सियां लग जाती है, जिससे कॉरीडोर पूरी तरह घिर जाता है।

भट्टी लगाकर रास्ता बंद
कॉरीडोर में रेस्टॉरेंट वालों ने भट्टी लगाकर रास्ता बंद कर दिया है। काउंटर लगा दिए हैं। यहीं पर रेस्टॉरेंट को सप्लाई की जाने वाली खाद्य सामग्री बनाई जा रही है। सार्वजनिक स्थल पर खुलेआम किचन चलाया जा रहा है।

सामानों का ढेर
दुकानों के बाहर तमाम प्रकार की सामग्री का ढेर लगाकर हदबंदी कर दी गई है। इस जगह से पैदल नहीं जाया जा सकता है। आगे जाने के लिए सड़क से होकर ही गुजरना पड़ता है।

देंखे वीडियो...

मैकेनिक की दुकान
हदबंदी करने का फायदा मैकेनिकों ने भी उठा लिया है। कॉरीडोर में वाहन सुधारने के लिए अच्छी जगह मिल गई है। इससे सुबह से ही वहां पर वाहन खड़ा करके रास्ता बंद कर दिया जाता है।

रेस्टॉरेंट का डिनर रूम
शाम होते ही यहां की स्थिति और भी अराजक हो जाती है। यहां पर रेस्टॉरेंट वाले कुर्सी टेबल जमा देते हैं और खुलेआम होटल चलाई जाती है। कॉरीडोर में होटल चलने से वहां पर लोग पैदल नहीं चल सकते हैं।

सड़क पर पार्किंग
यहां पर सबसे बड़ी समस्या पार्किंग की है। यहां दुकानों के सामने सड़क पर ही पार्किंग होती है। चार पहिया वाहनों की पार्र्किंग होने की वजह से कॉरीडोर छिप सा जाता है और यहां पर कॉरीडोर में कब्जा करने की मनमानी शुरू हो जाती है।

शुरूआत में हम इसी कॉरीडोर पर चलते थे लेकिन अब तो हमें सड़क से ही गुजरना पड़ता है।
शिवम

कॉरीडोर में तो कौन चलेगा यहां खानपान की गंदगी रहती है, जिससे सड़क ही ठीक है।
मुरारी

यहां तो पूरे मार्केट में लोगों ने हदें बना ली है। कोई सामान लगाया तो कोई किचिन तैयार कर रखा है।
संभव

कॉरीडोर पर कब्जा नहीं किया जा सकता है। यह लोगों के चलने के लिए होता है। यदि यहां कब्जा हो रहा है तो कार्रवाई की जाएगी।
जीएस बघेल, उपायुक्त, नगर निगम

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???