Patrika Hindi News

अजीब व्यवस्था: सबसे बड़े अस्पताल में जरूरतमंदों नहीं मिल रहा खून

Updated: IST blood bank
संभाग के सबसे बड़े अस्पताल से निराश लौट रहे मरीज

जबलपुर। नेताजी सुभाषचन्द्र बोस मेडिकल कॉलेज अस्पताल में टेस्ट किट खत्म होने के कारण खून का अदान-प्रदान लगभग बंद है। दो दिन से रक्तदाता उपलब्ध होने के बावजूद गम्भीर मरीजों को खून नहीं मिल पा रहा है। मेडिकल कॉलेज अस्पताल में दूसरे ब्लड बैंक से प्राप्त खून को नहीं चढ़ाया जाता है।
मेडिकल कॉलेज के ब्लड बैंकमें मात्र 39 यूनिट खून है। 126 यूनिट खून को टेस्ट के लिए रिजर्व रखा गया है। रैपिड किट न होने के कारण बिना जांच के रक्तदाता का खून नहीं निकाला जा रहा है। इस कारण जरूरतमंद मरीजों को वक्त पर खून नहीं मिल पा रहा है। गुरुवार दोपहर 3 बजे तक सिर्फ 9 लोगों को खून दिया गया। एचआईवी और एचसीवी किट खराब है।

एलायजा रीडर खराब
ब्लड बैंक का एलायजा रीडर आठ माह से खराब पड़ा है। एलायजा रीडर होता तो किट के बिना काम नहीं रुकता। स्टॉक का रिकॉर्ड बनाने में चूक हुई। जब किट खत्म हो गई तो गुरुवार को किट का प्रस्ताव भेजा गया।

मां को कैंसर है। हिमोग्लोबिन 6 ग्राम है। सुबह 7 बजे से दोपहर 3 बजे तक खून नहीं मिला। दो डोनर भी है।
संतोष पटेल, सिंगरौली

मरीज डायलिसिस पर है। खून चढ़ाया जाना है। किट के अभाव में खून नहीं मिल रहा है। जान जोखिम में पड़ सकती है।
प्रेम रजक, नरसिंहपुर

ब्लड बैंकमें किट खत्म हो गई है। नई किट के आर्डर कर दिये हैं गम्भीर मरीजों के लिए 50-50 किट मंगाई हैं। जल्द ही शिविर लगाकर रक्त की कमी दूर करेंगे।
डॉ. शिशिर चनपुरिया, ब्लड बैंकअफसर

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???