Patrika Hindi News

Video Icon संतों ने रोपे पौधे, बच्चों ने लिया संरक्षण का संकल्प, देखें वीडियो

Updated: IST Plantation Geetadham
पत्रिका के तत्वावधान में ग्वारीघाट गीताधाम में पौधरोपण

जबलपुर। नर्मदा तट ग्वारीघाट स्थित गीताधाम और गुरुधाम के समक्ष सोमवार को उन स्थानों पर पौधे लगाए गए, जहां छांव के लिए हरियाली की आवश्यकता है। संतों ने पौधे लगाए और छात्र-छात्राओं से उनके संरक्षण का संकल्प लिया। पौधा लगाने के लिए छात्र-छात्राओं ने श्रम किया। पत्रिका के तत्वावधान में पौधरोपण शुरू हुआ। उन सभी स्थानों पर गड्ढे बनाए गए जहां के पौधे किसी कारण से सूख गए हैं। स्वामी रामदास ने कहा कि पौधे लगाना पुण्य का काम है। इनका संरक्षण करना उससे भी बड़ा पुण्य है। पौधों से सिर्फ हरियाली और छांव नहीं है। बल्कि पौधा हमें प्राण वायु देते हैं।

संकल्प दिलाया
नरसिंह पीठ के उत्तराधिकारी स्वामी डॉ. नरसिंहदास ने आयुर्वेदिक कॉलेज के स्वयंसेवक, स्वयंसेविकाएं एवं संस्कृति के विद्यार्थियों को पौधे संरक्षित करने का संकल्प दिलाया। उन्होंने कहा कि पौधा लगाना सिर्फ धार्मिक नहीं बल्कि वैज्ञानिक दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है। वैज्ञानिकों ने पर्यावरण के लिए पीपल को सबसे अधिक उपयोगी बताया है।

Plantation Geetadham

अभियान को सराहा
गुरुधाम के सामने स्वामी त्रिलोकदास ने पौधे लगाए और पत्रिका के हरियाली से खुशहाली अभियान की सराहना की। इस मौके पर आयुर्वेदिक कॉलेज के प्राचार्य डॉ. रविकांत श्रीवास्तव, एनएसएस के प्रभारी डॉ. पंकज मिश्रा, डॉ. मनोज सिंह, मोहम्मद रजा सिद्दीकी, विश्व हिन्दू परिषद के धर्म प्रसार प्रमुख रमेश श्रीवास, मुन्ना पांडे एवं विध्येश भापकर ने पौधे लगाए।

रीवा से आए लोगोंने लगाए पौधे
गुरु के दर्शन करने आए रीवा के पूर्व महापौर वीरेन्द्र गुप्ता, भाजपा महिला मोर्चा रीवा की अध्यक्ष साधना गुप्ता एवं अशोक मंझानी ने पौधे लगाकर पुण्य कमाया। उन्होंने कहा कि गुरु की प्रेरणा से पौधे लगा रहे हैं।

मौलि श्री के रोपे पौधे
गीताधाम के समक्ष मौलि श्री का पौधा रोपते हुए स्वामी नरसिंहदास ने कहा कि श्याम वर्ण का यह पौधा हमेशा हरा भरा रहता है। जबकि इसके पुष्प से मधुर सुगन्ध आती है। धार्मिक द़ृष्टि से महत्वपूर्ण है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???