Patrika Hindi News

प्राइवेट कंपनी कर्मचारियों के लिए खुशखबर, देश में आज से लागू हो रही है यह प्रोविडेंट फंड योजना... पढ़ें पूरी खबर

Updated: IST provident fund
रिटायरमेंट के दिन प्रोविडेंट फंड और पेंशन अधिकार पत्र देने की योजना, पीएम ने पिछले महीने कही थी निजी क्षेत्र से रिटायर होने वाले कर्मचारियों को तत्काल पीएफ देने की बात कही

जबलपुर। निजी क्षेत्र में कार्यरत कर्मचारी को रिटायरमेंट के दिन ही प्रोविडेंट फंड व पेंशन अधिकार पत्र देने की योजना बुधवार से पूरे देश में शुरू हो रही है। लेकिन जबलपुर में यह प्रक्रिया पिछले सात सालों से निर्वाद्ध रूप से चल रही है। जिसके तहत निजी क्षेत्र से रिटायर होने वाले कर्मचारियों को क्षेत्रीय भविष्य निधि आयुक्त द्वारा उसके संस्थान में ही प्रोविडेंट फंड और पेंशन अधिकार पत्र सौंपे जा रहे हैं। देश में यह योजना लागू करने के लिए 28 अक्टूबर को दिल्ली में श्रम मंत्रालय की मासिक बैठक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने समस्त अधिकारियों व कर्मचारी भविष्य निधि आयुक्तों को निर्देशित किया था। प्रधानमंत्री के निर्देश के बाद कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने नई नीति पर काम शुरू किया और इसे नवम्बर माह में ही लागू करने नोटिफिकेशन जारी कर दिया।

जुलाई 2010 में शुरू हुई योजना

क्षेत्रीय भविष्य निधि आयुक्त मो. अशरफ कामिल ने बताया कि प्रधानमंत्री के निर्देशों के बाद नोटिफिकेशन जारी हो चुका है, जो 30 नवंबर से पूरे देश में लागू हो जाएगा। वहीं जबलपुर क्षेत्रीय कार्यालय द्वारा साल 2010 जुलाई माह में यह योजना बनाई गई कि सरकारी कर्मचारियों की तरह निजी क्षेत्र के कर्मचारियों को भी उसके रिटायरमेंट के दिन ही उसके हक के पैसे उसे दे दिए जाएं। 31 जुलाई को पहली बार पांच कर्मचारियों से इसकी शुरुआत की गई थी। अब तक 500 से अधिक कर्मचारियों को उनके रिटायरमेंट के दिन प्रोविडेंट फंड और पेंशन अधिकार पत्र दिए जा चुके हैं।

पूरे प्रदेश में किया लागू

भविष्य निधि अनुभाग अधिकारी शिवेन्द्र खम्परिया के अनुसार योजना के सफल होने के बाद एक साल के भीतर ही इस योजना को इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, उज्जैन और सागर रीजन में शुरू कर दिया गया। अभी यह योजना नियोक्ताओं द्वारा समय पर पैसा जमा न करने के कारण पूरी तरह से सफल नहीं हो पा रही है, इसे शत-प्रतिशत लागू करने के लिए काम हो रहा है।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???