Patrika Hindi News

खाकी की शह पर धड़ल्ले से बिक रही देर रात शराब

Updated: IST Khaki sold indiscriminately at the instigation of
ग्रामीण क्षेत्र सहित शहर में नशे का अवैध कारोबार इस कदर बढ़ गया है कि अब न तो नशा करने वाले और न ही नशे की बिक्री करने वालों को खाकी का डर रह गया है। शहर की देशी व विदेशी मदिरा दुकानें देर रात तक खुली रहती है।

जांजगीर-चांपा. ग्रामीण क्षेत्र सहित शहर में नशे का अवैध कारोबार इस कदर बढ़ गया है कि अब न तो नशा करने वाले और न ही नशे की बिक्री करने वालों को खाकी का डर रह गया है। शहर की देशी व विदेशी मदिरा दुकानें देर रात तक खुली रहती है।

शराब ठेकेदार के पंडे रात 11 बजे तक दुकान खुली रखकर तो पूरी रात पिछले दरवाजे से शराब बिक्री करते हैं। इसका नाजारा मंगलवार रात 10.20 देखने को मिला। कोतवाली पुलिस की पेट्रोलिंग पार्टी इस समय नेता चौक के पास जा रही बारात का बैंड बाजा बंद कराने तो पहुंच गई, लेकिन उस पेट्रोलिंग के सामने ही शराब की दुकान खुली रही, लेकिन पुलिस वालों ने उससे एक बार भी यह नहीं पूछा कि इतनी रात शराब दुकान कैसे खुली है ? पत्रिका ने इस सब नजारे को अपने कैमरे में लाइव कैद किया। कुछ पुलिस वालों का यहां तक कहना है कि शराब ठेकेदारों की पहुंच के आगे न तो आबकारी विभाग और न ही पुलिस विभाग की चलती है। इससे अब सभी व्यवस्था के तहत कार्य करने लगे हैं।

पत्रिका की टीम मंगलवार रात 10 बजे के बाद पुलिस की व्यवस्था का जायजा लेने निकली तो पाया कि कोतवाली चौक से कुछ ही दूर पर स्टेशन रोड की तरफ स्थित एक शराब दुकान में 10.10 मिनट पर लोगों की भीड़ लगी है। लोग दुकान से शराब खरीद रहे थे। थोड़ी दूर जाने पर ही पुलिस की पेट्रोलिंग पार्टी दिखी। वह नेता चौक से अकलतरा रोड पर मुड़ी और वहीं पर जा रही बारात का बैंड बंद कराने लगी। लेकिन वहीं पर अंग्रेजी शराब की दुकान खुली रही। पुलिस को बरातियों की खुशी को फीका करने तो नियम कानून दिख गया, लेकिन उसे यह नहीं दिखा कि हाईवे पर संचालित शराब दुकान रात दस बजे के बाद क्यों खुली है।

आबकारी महकमा पंगु- आबकारी विभाग तो अवैध शराब बिक्री को रोकने में पूरी तरह से पंगु साबित हो रहा है। अधिकारियों का कहना है कि वह टारगेट पूरा करने में इतने व्यस्त हैं कि उन्हें और कुछ देखने या करने की फुरसत ही नहीं है।

औपचारिकता निभा रहा पुलिस विभाग- शहर में गश्त के नाम पर पुलिस पेट्रोलिंग तो चुस्त दिखता है, लेकिन पेट्रोंलिंग ड्यूटी पर लगाए जाने वाले जवानों को ऐसा चश्मा पहना दिया जाता है, जिन्हें गैर कानूनी कृत्य नहीं दिखाई देता है। पुलिस पेट्रोलिंग के नाम पर महज औपचारिकता ही निभा रही है।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???