Patrika Hindi News

6 दुकानों की 56 लाख में अवैध नीलामी

Updated: IST jhabua
कागज की रसीद देकर राशि हड़पने की मंशा, ग्राम पंचायत झकनावदा ने निजी भूखंड पर बना दी दुकानें

झाबुआ. ग्राम पंचायत झकनावदा ने एक निजी भूखंड क्र 38 3/3 पर 6 दुकानें बनाकर 56 लाख रुपए में नीलाम कर दीं। ये दुकानें बिना किसी अनुमति के सरपंच और सचिव ने बना डाली। साथ ही दुकानों में दिए जाने वाले आरक्षण को भी ताक पर रख दिया। भूमि मालिक को कह दिया कि सरकारी काम में बाधा नहीं डाले। मामला दर्ज करवा देंगे।

बस स्टैंड के पास 6 दुकानें पंचायत ने बनावाई हैं। नीलामी प्रक्रिया में 28 लोग शामिल हुए थे। इनसे 10-10 हजार रुपए लिए गए। दुकानों की नीलामी 56 लाख में हुई। इसकी रसीद भी सादे कागज पर लिख कर दी गई है। सूत्र बताते हैं कि रसीद नहीं देने का कारण राशि हड़पने की मंशा है।

50 हजार रुपए राजसात

दुकानों में घालमेल का पता चलने से 5 दुकानदारों ने नीलामी राशि जमा नहीं की है। सिर्फ एक नंबर की दुकानदार ने 4 लाख रुपए जमा किएं। ग्राम पंचायत सचिव भीमसिंह कटारा और सरपंच बालूसिंह मेड़ा ने राशि जमा नहीं करने वाले दुकानदारों को 27 मई को नोटिस जारी कर कहा कि 3 दिन में 50 फीसदी राशि जमा करनी थी। अब तक पैसे जमा नहीं किए हैं। इसलिए आपकी पहली बोली निरस्त की जाती है। दूसरे बोलीदार को दुकान दी जाएगी। आपकी जमा राशि को राजसात किया जाता है। इस तरह पांच दुकानदारों के 50 हजार रुपए राजसात कर लिए हैं।

आधी दुकानों की नीलामी

पंचायत भवन के पास इन दुकानों से पहले की 6 दुकानें बनी हैं। कायदे से सभी 12 दुकानों की नीलामी एक साथ की जा सकती है। एक साथ नीलामी होने पर आरक्षण दिया जाता है। इसमें महिला, पूर्व सैनिक, पिछड़ा वर्ग, एससी-एसटी, विधवा आदि को शामिल किया जाता है। इससे बचने के लिए आधी दुकानों की नीलामी की गई। वह भी फर्जीवाड़ा करके। निजी भूखंड पूनमचंद कोठारी का है। इसकी रजिस्ट्री भी उनके पास है, लेकिन कोठारी को धमकी देकर प्लॉट छीन लिया।

नीलामी रद्द करने के आदेश दिए हैं

&दुकानों की नीलामी अवैध है। कलेक्टर ने दुकानों की नीलामी रद्द करने के आदेश दिए हैं। मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत पेटलावद को अवैध नीलामी के लिए कह दिया है।

-सीएस सोलंकी, एसडीएम पेटलावद

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???