Patrika Hindi News

> > > > Election Commission imposed ban on leaving the headquarters without permission

UP में चुनावी हलचल तेज, आयोग ने बिना अनुमति मुख्यालय छोड़ने पर लगाई रोक

Updated: IST up elections
यूपी में 2017 के विधानसभा चुनाव की हलचल तेज हो गई है। एक तरफ जहां सत्ताधारी सपाई कुनबे में घमासान चल रहा है

झांसी. यूपी में 2017 के विधानसभा चुनाव की हलचल तेज हो गई है। एक तरफ जहां सत्ताधारी सपाई कुनबे में घमासान चल रहा है, तो दूसरी तरफ निर्वाचन आयोग ने अपने ही तरीके से चुनावी तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसके तहत भारत निर्वाचन आयोग के मुख्य निर्वाचन अधिकारी 25 सितंबर को लखनऊ आकर चुनावी तैयारियों का जायजा लेने वाले हैं। वहीं, निर्वाचन आयोग ने चुनाव व्यवस्थाओं से जुड़े अफसरों के लिए व्यवस्था तय कर दी है। इसके तहत अब चुनावी व्यवस्था में लगाए गए अफसर बिना अनुमति के मुख्यालय नहीं छोड़ सकेंगे।

उप मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने जारी किए निर्देश

प्रदेश के उप मुख्य निर्वाचन अधिकारी रत्नेश सिंह ने प्रदेश भर के जिला मुख्यालयों को एक पत्र भेजा है। इसमें कहा गया है कि निर्वाचन क्षेत्रों की फोटोयुक्त मतदाता सूचियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण अभियान के चलते भारत निर्वाचन आयोग ने निर्वाचन कार्य से जुड़े अफसरों के अवकाश व प्रशिक्षण आदि को लेकर निर्देश जारी किए हैं। इसके चलते जिला निर्वाचन अधिकारी, निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी और सहायक निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी आदि अधिकारियों को अवकाश या प्रशिक्षण पर जाने के लिए प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से पूर्व अनुमोदन प्राप्त करना आवश्यक कर दिया गया है। इस पत्र की प्रति प्रमुख सचिव राजस्व, नियुक्ति विभाग, ग्राम्य विकास आयुक्त व राजस्व परिषद के सचिव को भेजी गई है।

इस संबंध में मांगी गई हैं सूचनाएं

इसके अलावा भारत निर्वाचन आयोग के मुख्य निर्वाचन अधिकारी के लखनऊ दौरे के मद्देनजर जिला मुख्यालयों से चुनावी तैयारियों के संबंध में सूचनाएं मांगी गई हैं। इसमें मतदाता सूची को लेकर चल रहे विशेष पुनरीक्षण अभियान के साथ ही मतदान केंद्रों की भौतिक स्थिति की जानकारी मुहैया कराने को कहा गया है। इसके अलावा इन मतदान केंद्रों पर उपलब्ध मूलभूत सुविधाओं को ब्योरा भी भेजने को कहा गया है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे