Jodhpur police receives fresh complaints against Asaram

Related News

शिवा धीरे-धीरे खोल रहा आसाराम की करतूतों की पोल

Jodhpur police receives fresh complaints against Asaram

print 
Jodhpur police receives fresh complaints against Asaram
9/7/2013 8:49:00 AM
Jodhpur police receives fresh complaints against Asaram
Jodhpur police receives fresh complaints against Asaram

जोधपुर। आसाराम मामले में रिमाण्ड पर चल रहे मुख्य सेवादार शिवा पुलिस के समक्ष स्पष्ट रूप से मुंह खोलने से कतरा रहा है। हालांकि शुक्रवार को पुलिस पूछताछ के दौरान आसाराम के विवादों से जुड़े सवालों के जवाब उसने हां में दिए।

पुलिस के सवाल-जवाब के बाद वह दिनभर काफी तनाव में रहा। उसने दोपहर का खाना भी नहीं खाया तीन दिन की रिमाण्ड अवधि समाप्त होने के बाद एक बार फिर शनिवार को उसे मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया जाएगा। पुलिस को शिवा ने बताया कि शिकायत के बाद उसने अन्य सेवादार के फोन से छात्रा के पीडिता को दबाव डालने के लिए कई बार फोन किए, लेकिन पीडिता के पिता ने फोन नहीं उठाया।

ऎसे उलझा सवालों के घेरे में

सवाल: छात्रा व उसके पिता लम्बे समय से आसाराम के अंध भक्त हैं और लम्बे समय से उनकी सेवा भी कर रहे हैं। ऎसे में यदि वे यह आरोप लगा रहे हैं तो कोई न कोई तो ठोस कारण तो होगा?


शिवा के जवाब :- शिवा ने गर्दन हिलाते हुए सहमति जता दी। शिवा ने बताया कि कुछ समय पहले बुर्का पहने एक महिला ने भी ऎसे ही आरोप लगाए थे, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

सवाल - महिला आश्रम या आसाराम से जुड़ी हुई नहीं होगी? तभी उसके आरोप ठोस नहीं पाए गए होंगे ?


जवाब :- हां।

सवाल - तुम वर्षो से आसाराम की सेवा कर रहे हो, लेकिन आसाराम यदि तुम्हारे साथ मारपीट या अभद्रता करते तो क्या तुम्हें गुस्सा नहीं आता और उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं करते ?


जवाब :- हां मुझे धक्का लगता और मैं चाहता कि कार्रवाई हो।

सवाल : - पीडिता गुरूकुल की छात्रा थी। ऎसे में उसके गुरू के साथ-साथ संरक्षक भी आसाराम ही हुए। यदि अंधभक्त पीडिता संरक्षक पर ही ऎसे आरोप लगाती है तो कोई न कोई ठोस वजह होगी?


जवाब : - शिवा ने हां में सिर हिलाया, लेकिन कोई जवाब नहीं दिया।

12 को सुनवाई


शिवा को अवैध रूप से हिरासत में रखने के प्रार्थना पत्र पर 12 सितम्बर को सुनवाई होगी। शिवा ने प्रार्थना पत्र पेश कर आरोप लगाया था कि उसे 31 अगस्त को गिरफ्तार कर तीन सितम्बर को अदालत में पेश किया। शुक्रवार दोपहर शिवा का महात्मा गांधी अस्पताल में स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। स्वास्थ्य परीक्षण में शिवा सामान्य पाया गया। उधर, डूंगरपुर में शुक्रवार को पत्रकारों के से बात करते हुए वाघंबरी पीठ इलाहाबाद के पीठाधीश महामण्डलेश्वर नरेन्द्रगिरी महाराज ने कहा कि आसाराम संत नहीं, व्यापारी है।

अपने विचार पोस्ट करें

Comments
Top