Patrika Hindi News

महज 10 दिनों के अंदर यहां 6 लोगों ने की आत्महत्या, वजह जान कर चौंक जाएंगे आप

Updated: IST committed suicide
इस शहर में एेसा क्या हुआ कि महज 10 दिनों में एक के बाद एक कुल 6 लोगों ने खुदकुशी कर ली। लेकिन लगातार बढ़ रही खुदकुशी की घटनाओं की वजह जानकर चौंक जाएंगे आप।

कवर्धा. इस शहर में एेसा क्या हुआ कि महज 9 दिनों में एक के बाद एक कुल 6 लोगों ने खुदकुशी कर ली। लेकिन लगातार बढ़ रही खुदकुशी की घटनाओं की वजह जानकर चौंक जाएंगे आप। मानसिक तनाव के चलते आत्महत्या की घटना बढ़ती जा रही है। और इसमें मुख्य रूप से युवा वर्ग अधिक हैं, जो चिंता का विषय है। आखिर क्यों युवा वर्ग मानसिक तनाव से जूझ रहे हैं।

Read More: शादी का झांसा देकर 2 साल तक दुष्कर्म, जब बच्ची को दिया जन्म तो हो गया फरार

छोटी-छोटी बातों पर नाराज होकर जहर सेवन और फांसी लगाकर आत्महत्या करने की घटना कबीरधाम में बढ़ती जा रही है। यह समाज के लिए गंभीर विषय है। आज टीवी और इंटरनेट में लगातार हिंसक वीडियो, फिल्म और गेम देखे जा रहे हैं जिसके कारण युवाओं की सोच भी हिंसक प्रवृत्ति में बदल रहा है। इसके चलते वह आत्महत्या जैसे कदम उठा रहे हैं। वहीं दूसरी ओर मानसिक तनाव भी इतना अधिक हावी हो रहा है कि किसी अन्य की चिंता ही नहीं की जाती और आत्महत्या को उतारु हो जाती है।

Read More: कलयुगी मां ने नवजात को मारकर घर के पीछे दफनाया, कुत्तों ने नोच कर बाहर निकाला

कबीरधाम की बात की जाए तो पिछले 10 दिनों के भीतर ही छह लोगों की मौत आत्महत्या से हुई। इसमें पांच लोग युवा वर्ग हैं। जबकि कई लोग गंभीर अवस्था में अस्पताल में भर्ती हैं। मतलब युवा वर्ग का दिल और दिमाग काफी कमजोर हो चुका है, जिसके चलते वह इस तरह से गंभीर कदम उठा रहे हैं। इस विषय पर गंभीरता से विचार की आवश्कता है।

Read More: शराबी पति ने डंडे से पीट-पीटकर कर दी पत्नी की बेरहमी से हत्या

परिवेश डांट फटकार का नहीं

डॉक्टर्स् की माने तो आज का परिवेश डांट फटकार का नहीं रहा। छोटी-छोटी बातों पर बच्चे गलत कदम उठा लेते हैं। इसके लिए बच्चों को लाड-प्यार और खुशनुमा माहौल देने की आवश्यकता है। साथ ही बच्चों को बचपन से दिगामी रूप से मजबूत बनाना भी जरूरी है। यदि बच्चे हिंसक और जिद्दी प्रवृत्ति के हैं तो डॉक्टर्स् से सलाह लेकर परवरिश करें।

Read More: न जाने क्या थी वजह, जहर खाने से दो की हुई मौत, सदमे में परिवार

गांवों में अधिक घटना

आत्महत्या की अधिकतर घटनाएं गांवों में हो रही है। शहरी क्षेत्र में अधिकतर युवा वर्ग पढ़ाई और किसी न किसी तरह से काम में व्यस्त है, जबकि गांवों में नहीं है। आत्महत्या में उन व्यक्तियों की संख्या अधिक है जो पढ़ाई छोड़ देते हैं और बेरोजगार हैं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???