Patrika Hindi News

> > > > BCCI felicitates Azharuddin, Sachin and other former Indian Cricket Captains during India’s 500th test

BCCI ने कानपुर में खेला 'सेफ गेम’, चुपके से कराई अजहर की इंट्री!

Updated: IST Azhar
बीसीसीआई ने इस मामले में पहले से ही सेफ गेम खेलने का मूड बना रखा था ताकि अजहर को लेकर कोई बवाल न हो

कानपुर। बीसीसीआई ने गुरुवार को ग्रीनपार्क में भारत के 500वें टेस्ट मैच से पहले भारत के पूर्व कप्तानों का सम्मान किया। सम्मानित किए जाने वाले पूर्व कप्तानों में फिक्सिंग का आरोप झेल चुके कलाई के बादशाह मोहम्मद अजहरुद्दीन उर्फ अजहर भी शामिल थे। अपनी कलाईयों के दम पर भारत को कई मैचों में जीत दिलाने वाले अजहर कि शख्सियत अब काफी विवादित है। किसी भी तरह के विवाद से बचने के लिए बीसीसीआई ने बड़ी ही चालाकी से कानपुर में कलाई के जादूगर का भी सम्मान कर दिया।

बीसीसीआई ने खेला सेफ गेम

बीसीसीआई ने इस मामले में पहले से ही सेफ गेम खेलने का मूड बना रखा था। सम्मान समारोह के लिए तैयार कराए गए पोस्टर्स में कहीं भी अजहर को जगह नहीं दी गई थी और न ही बुधवार को आयोजित डिनर में उन्हें अन्य कप्तानों के साथ डायस पर बुलाया गया। जबकि अजहर वहीं मौजूद थे। यही नहीं, ग्रीनपार्क में भी सम्मान समारोह के दौरान अचानक ही भीड़ के बीच से अजहर को बुलाकर सम्मानित किया गया।

Azhar

ये कमी खली

बुधवार को होटल में डिनर के दौरान अन्य कप्तानों के साथ अजहर भी मौजूद थे। डायस पर दिलीप वेंगसरकर, के. श्रीकांत, सचिन तेंदुलकर समेत कई ऐसे कप्तान थे जो कम से कम कप्तानी में अजहर के सामने नहीं टिकते। समारोह के लिए तैयार किए गए पोस्टर्स पर भी बिशन सिंह बेदी और गुंडप्पा विश्वनाथ सरीखे कप्तानों को जगह दी गई लेकिन भारत के सफलतम कप्तानों में से एक अजहर नदारद रहे।

पहले बनाई थी दूरी

अजहरूद्दीन पर 2000 में मैच फिक्सिंग प्रकरण में कथित रूप से शामिल होने के लिये आजीवन प्रतिबंध लगा हुआ था। अजहर को अदालत द्वारा बरी कर दिया गया था लेकिन बीसीसीआई अभी तक उन्हें अधिकारिक कार्यक्रमों में आमंत्रित करने से बचता रहा था।

बीसीसीआई ने जब अजहर को सम्मान समारोह में बुलाने की हामी भरी थी तभी से इस पर विवाद खड़ा हो गया था। समारोह के दौरान कोई विवाद न हो इसलिए बीसीसीआई ने अजहर को सबसे छुपाकर पेश किया। फिलहाल इस सम्मान समारोह के बाद यह कयास भी लगने लगे हैं कि जल्द ही बीसीसीआई अजहर को मुख्य धारा में वापस ला सकती है। उन्हें बोर्ड में कोई पद देकर उनकी वापसी कराई जा सकती है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे