Patrika Hindi News

जिन्न को खुश करने के लिए तांत्रिक ने की मासूम की दी बलि

Updated: IST murder
तांत्रिक ने किया छल, जिन्न ने बेटे का किया कत्ल

कानपुर. तांत्रिक ने जिन्न को खुश करने के लिए मेरे बेटे की बली दी है। बेटे के शव का दाह संस्कार नहीं करिए, उस तांत्रिक को पकड़कर लाइए। जिसने तंत्र-मंत्र के जरिए बेटे के प्राण लिए हैं। वह अगर चाहेगा तो अंश जिंदा हो जाएगा। यह नजारा आज बिधनू थाने के रमईपुर गांव में देखने को मिला। जहां एक मां अपने बेटे के शव को लेकर श्मशान घाट पर बैठकर विलाप कर रही थी। इस बीच परिजन तांत्रिक को ढूंढ़ने के लिए निकले वैसे किसी ने पुलिस को सूचना दे दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने तांत्रिक के खिलाफ कार्रवाई का भरोसा देकर उन्हें समझाया और ढांढस बंधाया।

बिधनू के रमईपुर गांव में बुधवार देररात अंध विश्वास ने एक सात महीने के मासूम की जिंदगी छीन ली। मासूम पिछले दो हफ्तों से गंभीर बीमारी से ग्रसित था। परिवारीजन इलाज न करवाकर झाड़-फूंक करवाने में जुट गए। इस कारण मासूम की मौत हो गई। परिवारीजन एक तांत्रिक पर आरोप लगाते हुए कहा कि बेटे को तांत्रिक ने मौत दी है। उसके पास एक जिन्न है जो साल में एक मासूम की बलि लेता है। उसने छल से बेटे को ठीक करने के नाम पर उसकी जान ली है। पिता मनोज ने बताया कि बेटे को ठीक करने के नाम पर तांत्रिक रात 12 बजे तांत्रिक क्रिया कर रहा था। इसी दौरान एक रोशनी दिखी और तांंत्रक जोर-जोर से हंसने लगा और कुछ मिनट में बेटे की मौत हो गई।

दो हफ्ते से चल रहा था बीमार

रमईपुर निवासी मनोज किसान हैं। मनोज के सात माह के बेटे अंश की तबियत करीब दो हफ्ते पहले खराब हो गई थी। इसके बाद मनोज व उनकी पत्नी यशोदा अंश को लेकर एक निजी अस्पताल गए थे। जहां डॉक्टर ने हालत गंभीर बताते हुए हैलट रेफर कर दिया था। मनोज अंश को हैलट ले जाने के बजाय गांव के एक तांत्रिक के पास लेकर गए। बुधवार रात करीब एक बजे अचानक अंश की तबीयत बिगड़ गई और उसकी मौत हो गई। मनोज का आरोप है कि तांत्रिक ने अपी तंत्र शक्ति बढ़ाने के कारण बेटे की बलि ली है।

बेटा जकड़ रहा था तांत्रिक हंस रहा था

मृतक के पिता का आरोप है कि बुधवार की शाम तांत्रिक बिना बुलाए हमारे घर आ धमका। उसने बेटे का तांत्रिक इलाज के नाम पर हवन-सामाग्री मंगवाई। तांत्रिक ने मुझे और पति को सो जाने को कहकर तंत्र विद्या में जुट गया। तांत्रिक ने बेटे के शरीर से सारे कपड़े उतार दिए। मनोज के मुताबिक रात 12 बजे एकाएक रोशनी हुई तो हमलोग डर गए, तभी तांत्रिक हंसने लगा और बेटा जकड़ने। इसी दौरान बेटे ने दोनों आंखें बाहर कर दी तो मैं उसे गोदपर उठाया और नब्ज टटोली, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। तांत्रिक मुझे धक्का देकर घर से भाग गया।
अंश को थी ब्रेन में टीबी

मृतक के परिवारीजन अंश के बीमार होने की बात से ही इनकार कर रहे थे। उनका कहना था कि वह अंश लगातार रो रहा था। जब वह डॉक्टर के पास पहुंचे तो उन्होंने किसी भी बीमारी की बात नहीं की थी लेकिन बिधनू एसओ का कहना है कि मामले में जांच की जानकारी मिली की दो हफ्ते पहले एक निजी डॉक्टर को दिखाया था। उस डॉक्टर के मुताबिक अंश को ब्रेन टीबी थी जिसके चलते उसकी मौत हुई है। एसओ ने कहा कि मृतक के पिता ने तहरीर दी है। पुलिस पूरे प्रकरण की जांच कर रही है और अगर आरोप सही पाए जाते हैं तो तांत्रिक को गिरफ्तार कर जेल भेजा लाएगा।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???