Patrika Hindi News

मां की मौत के दिन छुट्टी पर वार्ड दरोगा, कैसे बने डेथ सर्टिफिकेट

Updated: IST nagarnigam
मां का डेथ सर्टिफिकेट बनवाने पार्षद और वार्ड दरोगा के चक्कर काट रहा युवक

कटनी. कैंसर से मां की मौत होने के बाद उनका डेथ सर्टिफिकेट बनवाने बेटा पिछले पांच दिनों से पार्षद व वार्ड दरोगा के चक्कर काट रहा है। पार्षद के पास आवेदन ले जाने पर वे वार्ड दरोगा के हस्ताक्षर करवाने की सलाह देती हैं और वार्ड दरोगा कहता है कि जिस दिन तुम्हारी मां की मौत हुई उस दिन मैं छुट्टी पर था। पार्षद व वार्ड दरोगा के चक्कर काट रहे वार्ड क्रमांक 28 नेहरू वार्ड निवासी रविशंकर तिवारी सोमवार को नगरनिगम कार्यालय पहुंचे लेकिन यहां भी महापौर व आयुक्त की गैरमौजूदगी से उन्हें निराशा हाथ लगी। रवि ने फिर भी यहां मौजूद अधिकारी व जनप्रतिनिधियों से शिकायत कर समस्या बतलाई।
रविशंकर ने बताया कि उनकी मां शकुंतला बाई पति जमुनाप्रसाद तिवारी का कैंसर रोग से पीडि़त थी, जिनका इलाज लगाकर चल रहा था। 2 अक्टूबर को उनका स्वर्गवास हो गया। क्रिया-कर्म व तेरहवीं के बाद रविशंकर ने नगरनिगम में संपर्क किया और डेथ सर्टिफिकेट बनवाने संबंधी आवेदन प्राप्त किया। रवि ने बताया कि आवेदन पूर्ण करने के बाद 15 अक्टूबर को वह वार्ड पार्षद सीमाजैन सौगानी के पास पहुंचा। आवेदन की जांच के बाद उन्होंने वार्ड दरोगा व तीन गवाहों के साइन करवाने के लिए कहा। यहां से रवि आवेदन लेकर 16 अक्टूबर को वार्ड दरोगा के पास पहुंचा तो दरोगा ने टका सा जवाब देते हुए कहा कि जिसदिन तुम्हारी मां की मौत हुई उसदिन में छुट्टी पर था, इसलिए मैं साइन नहीं कर सकता। रविशंकर ने बताया कि 17 अक्टूबर को वह फिर पार्षद के घर पहुंचा, लेकिन वे नहीं मिली। सोमवार को एकबार फिर सुबह करीब 11 बजे वह पार्षद के घर पहुंचा तो वहां मौजूद परिजनों ने उससे कहा कि पार्षद की तबीयत खराब है वे तीन-चार दिन बाद ही मिल सकेंगी। डेथ सर्टिफिकेट बनवाने लगातार जद्दोजहद करने के बाद भी नाकाम रवीशंकर सोमवार को नगरनिगम कार्यालय पहुंचा और यहां मौजूद अधिकारियों से शिकायत कर अपनी पीड़ा बताई।
मैं अस्पताल में भर्ती हूं
नेहरूवार्ड पार्षद सीमाजैन सोगानी ने बताया कि डेथ सर्टिफिकेट के लिए कई प्रकियाएं पूर्ण करनी होती है, जिसके लिए मैने रवीशंकर तिवारी को वार्ड दरोगा के हस्ताक्षर करवाने के लिए कहा था। मेरा स्वास्थ्य खराब होने के कारण फिलहाल में अस्पताल में भर्ती हूं। इस मामले में महापौर शशांक श्रीवास्तव का कहना है कि डेथ सर्टिफिकेट बनवाने की प्रक्रिया बेहद आसान है। किसी आवेदक को इस तरह से यदि परेशानी हो रही है तो यह एक गंभीर मामला है। अधिकारियों से मामले की जानकारी लेकर लापरवाही करने वालों पर कठोर कार्रवाई करेंगे।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???