Patrika Hindi News

पढ़े... कैसे छह वर्ष बाद फिर बना विशेष संयोग

Updated: IST Navagraha Temple attractive electrical decorations
शनिवार को सुबह 7.38 बजे सूर्यनारायण का मकर राशि में प्रवेश होगा व इसके साथ ही मकर संक्रांति का महापर्व शुरू हो जाएगा। ग्रहों के राजा सूर्यदेव की अगवानी के इस महापर्व पर हजारों श्रद्धालुओं के आने की संभावना को देखते हुए नवग्रह मंदिर में विशेष तैयारियां की गई है।

खरगोन. छह वर्ष बाद एक बार फिर विशेष व दुर्लभ संयोग में मकर संक्रांति का आगमन हो रहा है। वर्ष 2011 में यह विशेष संयोग बना था, जब मकर संक्रांति शनिवार को आई थी। मकर संक्रांति को लेकर शहर के कुंदा तट स्थित नवग्रह मंदिर में विशेष तैयारियां की गई है। शनिवार को यहां शहर सहित आसपास के क्षेत्र से 50 हजार से अधिक श्रद्धालु दर्शन करने पहुंचेंगे। यहां स्थित सूर्यदेव की प्रतिमा के दर्शन-पूजन के साथ ही सत्यनारायण भगवान की कथा का आयोजन होगा। इसके साथ ही अन्य धार्मिक आयोजन भी ब्रह्ममुहूर्त से शुरू होकर देररात तक चलेंगे।

मकर राशि में प्रवेश करेंगे सूर्यदेव

शनिवार को सुबह 7.38 बजे सूर्यनारायण का मकर राशि में प्रवेश होगा व इसके साथ ही मकर संक्रांति का महापर्व शुरू हो जाएगा। ग्रहों के राजा सूर्यदेव की अगवानी के इस महापर्व पर हजारों श्रद्धालुओं के आने की संभावना को देखते हुए नवग्रह मंदिर में विशेष तैयारियां की गई है। यहां बैरिकेड्स लगाए गए हैं। इसके साथ ही मंदिर परिसर की बाहरी व आंतरिक आकर्षक साजसज्जा की गई है। मकर संक्रांति का महापुण्यकाल व महासिद्धिकाल शनिवार को दिनभर रहेगा। इस दौरान श्रद्धालु नवग्रह मंदिर में दर्शन-पूजन कर जरुरतमंदों को आवश्यक सामग्री का दान करेंगे।

MUST READ - हजारों दीपों से जगमगा उठा नर्मदा तट

यह होंगे आयोजन

शनिवार को ब्रह्ममुहूर्त में सुबह पांच बजे मंदिर में विराजित बगलामुखी देवी की प्रतिमा के साथ ही ब्रह्मास्त्र, सूर्यचक्र व सूर्यदेव सहित नवग्रह की प्रतिमाओं का महापूजन किया जाएगा। इसके बाद महाशृंगार होगा। इसके बाद सुबह सात बजे पहली महाआरती की जाएगी। महाआरती के बाद नवग्रहों को 651 किलो मोदक की महाप्रसादी अर्पित की जाएगी। इसका श्रद्धालुओं में दिनभर वितरण किया जाएगा। इस मौके पर मंदिर परिसर में 108 पंडितों द्वारा भगवान सत्यनारायण की कथा का पाठ किया जाएगा। शाम सात बजे दूसरी महाआरती की जाएगी। इसके साथ ही रात्रि आठ बजे से बालाजी रामायण मंडल के कलाकारों द्वारा संगीतमय सुंदरकांड की प्रस्तुति दी जाएगी। इसके बाद रात्रि 12 बजे सुंदरकांड की आरती के साथ ही महाआरती की जाएगी व महापर्व का समापन होगा।

ऑनलाइन लाइव दर्शन

नवग्रह मंदिर में विराजमान माँ बगलामुखी एवं सूर्यदेव के ऑनलाइन लाइव दर्शन किए जा सकते हैं। इसके लिए नवग्रह मंदिर डॉटकाम वेबसाइट पर जाकर लाइव दर्शन पर क्लिक करना होगा। महापर्व पर आयोजित कार्यक्रमों के व्यवस्थापक लक्ष्मीकांत जागीरदार व पुजारी पंडित लोकेश जागीरदार ने बताया कि शनिवार को आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए सभी तैयारियां की गई है। उन्होंने श्रद्धालुओं से मंदिर में आयोजित विभिन्न आयोजनों में भागीदारी करने का आग्रह किया है।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???