Patrika Hindi News

अरुण जेटली को बंगाल समिट का आमंत्रण

Updated: IST kolkata news
पश्चिम बंगाल में निवेश बढ़ाने के लिए आयोजित दो दिवसीय बंगाल समिट में राज्य सरकार ने केन्द्रीय वाणिज्य व वित्त मंत्री अरुण जेटली को ही आमंत्रित किया है

कोलकाता. पश्चिम बंगाल में निवेश बढ़ाने के लिए आयोजित दो दिवसीय बंगाल समिट में राज्य सरकार ने केन्द्रीय वाणिज्य व वित्त मंत्री अरुण जेटली को ही आमंत्रित किया है। वर्ष 2016 में इस समिट में चार केन्द्रीय मंत्रियों को आमंत्रित किया गया था। विश्लेषज्ञ इसे नोटबंदी को लेकर केंद्र व राज्य के बीच पैदा हुए खटाई से जोड़ कर देख रहे हैं। मिलन मेला परिसर में इस बार 20-21 जनवरी के बीच बंगाल समिट आयोजित हो रहा है। समिट का उद्घाटन 20 जनवरी को राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी करेंगे।

समिट में प्रोटोकोल देख रहे सूत्रों के अनुसार, राज्य सरकार ने इस बार केन्द्र सरकार से सिर्फ केन्द्रीय वाणिज्य व वित्त मंत्री अरूण जेटली को ही बंगाल समिट के लिए आमंत्रित किया है। वह भी प्रोटोकोल की औपचारिका को देखते हुए। पिछले बार राज्य सरकार ने केंद्रीय सड़क परिवहन, हाईवे व शिपिंग मंत्री नितिन जयराम गडकरी, रेलवे मंत्री सुरेश प्रभु व ऊर्जा व कोयला राज्य मंत्री पीयूष गोयल को आमंत्रित किया था।

बताया जाता है कि नोटबंदी व तृणमूल नेताओं की सीबीआई की ओर से की गई गिरफ्तारी के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी खासा नाराज है। वे किसी भी केंद्रीय मंत्री को बंगाल समिट में आमंत्रित नहीं करना चाहती थीं। समिट में विदेशों से भी प्रतिनिधि आ रहे हैं। इसलिए प्रोटोकाल की दृष्टि से केंद्रीय मंत्री को आमंत्रित किया गया।

भाजपा में भी है विरोध

सूत्रों के अनुसार भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश इकाई भी अरुण जेटली के बंगाल समिट में हिस्सेदारी की खबरों से नाखुश है। प्रदेश इकाई का मानना है कि राज्य में तृणमूल के खिलाफ भाजपा ने आंदोलन शुरू किया है। अगर इस कार्यक्रम मेंं अरुण जेटली आते हैं तो भाजपा कार्यकर्ताओं में गलत संदेश जाएगा। वहीं, विपक्ष के हाथों भी एक बड़ा हथियार हाथ लग जाएगा कि भाजपा व तृणमूल में सांठगांठ है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???