Patrika Hindi News

पत्नी के मोबाइल फोन की जासूसी करने पर भारी जुर्माना

Updated: IST kolkata news
पश्चिम बंगाल में साइबर एडज्युडिकेटर साइबर मामलों में फैसला देने वाले ने एक व्यक्ति को अलग रह रही अपनी पत्नी के मोबाइल कॉल्स और मैसेज की जासूसी करने के लिए 50 हजार रुपए का मुआवजा देने का निर्देश दिया है

कोलकाता. पश्चिम बंगाल में साइबर एडज्युडिकेटर साइबर मामलों में फैसला देने वाले ने एक व्यक्ति को अलग रह रही अपनी पत्नी के मोबाइल कॉल्स और मैसेज की जासूसी करने के लिए 50 हजार रुपए का मुआवजा देने का निर्देश दिया है। राज्य में इस तरह का यह पहला आदेश है।

राज्य के आईटी सचिव ने अलग रह रही पत्नी के मोबाइल फोन का अवैध तरीके से जासूसी करने के लिए व्यक्ति को मुआवजा देने का आदेश दिया। आईटी सचिव पदेन साइबर एडज्युडिकेटर हैं।

व्यक्ति को आनलाइन निजता भंग करने के लिए आईटी कानून 2000 की विभिन्न धाराओं के तहत दोषी ठहराया गया। महिला के वकील विभास चटर्जी ने कहा कि कानून के अनुसार एडज्युडिकेटर अधिकतम पांच करोड़ रुपए तक मुआवजे का आदेश दे सकते हैं। गुरुवार को जारी किए गए आदेश में व्यक्ति को 30 दिनों के अंदर महिला को मुआवजा देने को कहा गया है।

महिला की शिकायत

महिला ने अपनी शिकायत में कहा कि उसके पति ने जून 2014 में हावड़ा सिविल अदालत में याचिका दायर कर तलाक की मांग की थी। दोनों की मई 2013 में ही शादी हुई थी लेकिन जल्दी ही दोनों के संबंधों में कटुता आ गई, क्योंकि व्यक्ति अपनी पत्नी पर संदेह करता था। महिला के अनुसार जब उनके संबंध अच्छे थे, उस दौरान वह फेसबुक और ईमेल एकाउंट के पासवर्ड साझा करती थी।

महिला का दावा

महिला ने दावा किया कि एक बार उसके पति ने उसका मोबाइल फोन ले लिया और उसकी जानकारी के बिना ही मोबाइल फोन में एक मैलवेयर इंस्टाल कर दिया। इसके जरिए वह उस फोन से किए जाने वाले सभी कॉल और मैसेज की जानकारी प्राप्त कर सकता था। जबकि व्यक्ति ने सभी आरोपों से इंकार करते हुए दावा किया था कि शिकायत गलत तथा प्रेरित है।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???