Patrika Hindi News

गंगासागर में आज लाखों लगाएंगे पवित्र डुबकी

Updated: IST gangasagar
मकर संक्रांति पर गंगासागर में शनिवार को लाखों की संख्या में श्रद्धालु पुण्य स्नान करेंगे।

सागर/कोलकाता. मकर संक्रांति पर गंगासागर में शनिवार को लाखों की संख्या में श्रद्धालु पुण्य स्नान करेंगे। शुक्रवार को लाखों की संख्या में तीर्थयात्री सागर क्षेत्र में पहुंच चुके थे। अयोध्या हनुमानगढ़ी के महंत तथा कपिलमुनि मंदिर के ट्रस्ट महंत ज्ञानदास के अनुसार सागर में पुण्य स्नान का शुभ मुहूर्त 14 जनवरी शनिवार तड़के 2.52 बजे से 15 जनवरी की सुबह तक है। मेला प्रांगण में हर हर गंगे का नारा गूंज रहा है। कपिलमुनि मंदिर को बिजली की रंग बिरंगी कलाकृतियों से सजाया गया है। मंदिर के निकट बनी कुटिया में विराजे नगा साधुओं को देख्रने के लिए लोगों की भीड़ देखी जा रही है। साधुओं से भभूत और आशीर्वाद लेने के लिए लोगों में होड़ सी लगी हुई है। हिन्दू पंचांग के अनुसार शनिवार तड़के से पुण्य स्नान शुरू हो जाएगा। भीड़ पर नियंत्रण रखने के लिए राज्य प्रशासन ने ऐहतियाती कदम उठाए हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के निर्देश पर राज्य सरकार के छह वरिष्ठ मंत्री प्रशासनिक व्यवस्था की निगरानी कर रहे हैं। राज्य के पंचायत व ग्रामीण विकास मंत्री सुब्रत मुखर्जी ने शुक्रवार को गंगासागर मेला प्रांगण में छह लाख से अधिक तीर्थयात्रियों के पहुंचने का दावा किया है। उन्होंने कहा कि शुक्रवार दोपहर बाद से तीर्थयात्रियों की संख्या क्रमश: बढ़ती जा रही है। काकद्वीप की लॉट संख्या-8 और नामखाना से होकर जाने वाले तीर्थयात्रियों की सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किए गए हैं। मेला प्रांगण में संवाददाता सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए पंचायत मंत्री ने कहा कि गुरुवार सुबह से लेकर शुक्रवार शाम तक करीब 4 लाख तीर्थयात्री गंगासागर में डुबकी लगा चुके हैं।

सीसीटीवी से निगरानी

मेला प्रांगण में भीड़ पर नजर रखने के लिए प्रशासन की ओर से सीसीटीवी का सहारा लिया जा रहा है। पिछले साल 140 के मुकाबले इस साल 165 सीसीटीवी लगाए गए हैं।

तीन घंटे तक ठप रही लांच सेवा

मुखर्जी ने बताया कि मुड़ी गंगा का जल स्तर घट जाने के कारण इस दिन अपरान्ह 3 बजे से करीब 3 घंटे तक लांच सेवा ठप रही। काकद्वीप की लॉट संख्या 8 और कचूबेडिय़ा के बीच लांच नहीं चले।

यह है मान्यता

हिन्दू मान्यता के अनुसार गंगासागर की तीर्थयात्रा सैकड़ों तीर्थ के समान है। कहते हैं कि हर किसी को यहां आना नसीब नहीं होता है। गंगासागर में मकर संक्रांति मेला 14 जनवरी से एक सप्ताह पहले ही शुरू हो जाता है। मकर संक्रांति के दिन शुभ मुहूर्त में पुण्य स्नान के बाद सूर्य को अघ्र्य अर्पित करने तथा कपिलमुनि के दर्शन को काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। तीर्थयात्री मकर स्नान के बाद काला तिल, चावल और तेल का दान करने के अलावा सागर देवता को नारियल अर्पित करना तथा गौ दान भी करने का रस्म पूरा करते हैं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???