Patrika Hindi News

> > > > maa durga to stay with family in moon at kolkata puja pandal

कोलकाता में चांद पर विराजेंगी मां दुर्गा 

Updated: IST santosh mitra square puja pandal
संतोष मित्रा स्क्वायर लेन में बनने वाले पूजा पंडाल की थीम में भूकम्प की त्रासदी से बचने का तरीका तो बताया ही गया है साथ ही चांद पर जीवन कैसा होगा? यह भी दर्शाया जाएगा। यहां बने चांद पर बसी पूरी दुनिया इंसानों की होगी। इस चांद को बनाने में केवल कल्पना ही नहीं विज्ञान का भी सहारा लिया जा रहा है।

कोलकाता
संतोष मित्रा स्क्वायर लेन में बनने वाले पूजा पंडाल की थीम में भूकम्प की त्रासदी से बचने का तरीका तो बताया ही गया है साथ ही चांद पर जीवन कैसा होगा? यह भी दर्शाया जाएगा। यहां बने चांद पर बसी पूरी दुनिया इंसानों की होगी। इस चांद को बनाने में केवल कल्पना ही नहीं विज्ञान का भी सहारा लिया जा रहा है। इस चांद पर दिखाई देने वाले लोगों की पोशाक धरती और चांद के गुरुत्वाकर्षण और दोनों ग्रहों के वायुमंडलीय वातावरण में अंतर को ध्यान में रखकर डिजाइन की गई है।
पूजा कमेटी ने इस पंडाल को चांदेर बाड़ी (चांद पर घर) नाम दिया है। कमेटी के अध्यक्ष प्रदीप घोष ने बताया कि पिछले दिनों वैज्ञानिको की ओर से किये गए शोध में यह बात सामने आई कि दक्षिण पूर्व एशिया में भीषण भूकम्प से भारत, बांग्लादेश, नेपाल, म्यांमार सहित कई देशों में भारी तबाही मच सकती है। इस शोध के सामने आने के बाद मन में विचार आया कि भूकम्प से बचने के लिए हमें चांद पर आशियाना बनाना चाहिए। इसी विचार से चांदेर बाड़ी की कल्पना ने आकार लिया। चांदेर बाड़ी में मां दुर्गा सपरिवार विराजेंगी।
4 महीने से काम कर रहे मजदूर
इस खास पंडाल को बनाने के लिए काम की शुरुआत 6 जुलाई को ही हो गई थी। पिछले 4 महीने से कुल 70 मजदूर पंडाल निर्माण में लगे हैं। यह पंडाल पूनम के चांद की तरह चमकता हुआ, दूधिया चांदनी बिखेरता हुआ नजर आएगा। इसके खास विशेष कपड़ों में दिखेंगे चांद पर मानव
पूजा कमेटी के प्रधान सचिव सजल घोष ने बताया कि मानव सभ्यता जब चांद पर निवास करेगी तो स्पेस सूट पहनने पड़ेंगे। इस चांद पर भी लोग स्पेस सूट में काम करते नजर आएंगे।
81वें वर्ष में पदार्पण कर रही पूजा
उत्तर कोलकाता की विख्यात व पुरानी दुर्गापूजाओं में से एक संतोष मित्र स्क्वायर दुर्गापूजा वर्ष 1936 में घोष परिवार से शुरू हुई थी। पूर्व पार्षद प्रदीप घोष के पूर्वजों ने इस दुर्गा पूजा की शुरुआत की थी। इसके उद्घाटन में राय चंद बोराल, लता मंगेशकर, मन्ना डे, हेमन्त कुमार, मुकेश, तलत महमूद, सुबीर सेन सहित पाश्र्व गायन के बड़े दिग्गज कार्यक्रम पेश कर चुके हैं।
चांद देखने उमड़ेंगे लोग
आकाशमंडल में पृथ्वी के बाद चांद दूसरा सबसे बड़ा आकर्षण है। भूकम्प में धरती का विकल्प केवल चांद है। इसी चांदेर बाड़ी को देखने के लिए कोलकाता वासी जरूर उमड़ेंगे। हमें उम्मीद है कि इस बार भी लोग संतोष मित्र स्क्वायर में ऐतिहासिक उपस्थिति दर्ज कराएंगे।
प्रदीप घोष, अध्यक्ष, संतोष मित्र स्क्वायर सार्वजनिन दुर्गोत्सव पूजा कमेटी

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे