Patrika Hindi News

सीएसईबी में फर्जी नियुक्तियों  की जांच शुरू,कर्मियों में हड़कंप

Updated: IST CSEB started investigating bogus appointments, per
नियुक्ति के करीब 36 साल बाद सीएसईबी में प्रमाण पत्रों की जांच शुरू हुई है। बोर्ड ने कर्मचारियों के प्रमाण पत्रों की छानबीन करने का निर्णय लिया है।

कोरबा. नियुक्ति के करीब 36 साल बाद सीएसईबी में प्रमाण पत्रों की जांच शुरू हुई है। बोर्ड ने कर्मचारियों के प्रमाण पत्रों की छानबीन करने का निर्णय लिया है।

संदेह है कि कंपनी में 250 से 300 कर्मचारी फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर ड्यूटी कर रहे हैं। जांच की खबर से कर्मचारियों में हड़कंप मचा हुआ है।

मामला सन् 1981- 82 की नियुक्ति से जुड़ा है। अविभाजित मध्यप्रदेश के समय कोरबा में बिजली संयंत्र स्थापित किए गए थे। इसका संचालन मध्य प्रदेश बिजली बोर्ड के अधीन होता था। विभाजन के बाद संयंत्र का संचालन छत्तीसगढ़ बिजली बोर्ड के अधीन होने लगा। स्थापना के दौरान संयंत्र में बड़े पैमाने पर भर्ती हुई। 10वीं और आठवीं पास लोगों की भर्ती गई।

बताया जाता है कि नियुक्ति के बाद कर्मचारियों के प्रमाण पत्रों की छानबीन सही तरीके से नहीं हुई। इसबीच कुछ कर्मचारियों के जाली प्रमाण पत्र पर नौकरी करने का भांडा फूटा।

कुछ कर्मचारियों ने कोर्ट की शरण ली। बोर्ड तक शिकायत पहुंची कि जाली प्रमाण पत्र के आधार पर कुछ कर्मचारी कार्य कर रहे हैं। कुछ दिन तक मामला दबा रहा। अब प्रबंधन हरकत में आया है।

संदिग्ध लोगों के प्रमाण पत्र की जांच की जा रही है। प्रबंधन से जुड़े सूत्रों का दावा है कि करीब 250 से 300 कर्मचारियों की नियुक्ति से संबंधित फाइलों को जांच के लिए बोर्ड को भेजा जा रहा है। इसमें 10वीं और आठवीं की अंक सूची भी शामिल है।

बोर्ड दस्तावेजों का सत्यापन कराएगा। फर्जी तरीके से नियुक्ति पाए जाने पर विभागीय कार्रवाई करेगा। पिछले दिनों बोर्ड चेयरमैन के कोरबा प्रवास के दौरान भी फर्जी नियुक्ति की जांच को लेकर चर्चा हुई थी।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???