Patrika Hindi News

> > > > korba : The village will be rehabilitated Model Village

SECL plan : पुनर्वाास गांव बनेंगे आदर्श ग्राम

Updated: IST SECL plan
जिला प्रशासन द्वारा पुनर्वास गांव को आदर्श ग्राम के रूप में विकसित करने की पहल की गई है। इस पर एसईसीएल द्वारा कार्य करने की सहमति दी जा चुकी है।

कोरबा. एसईसीएल के पुनर्वास गांव को आदर्शन ग्राम बनाया जाएगा। इसके लिए कंपनी ने योजना बना ली है। इसके अनुसार प्रत्येक गांव में पांच करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे।एसईसीएल द्वारा कोयला खदान चलाने के लिए बड़े पैमाने पर जमीन अधिग्रहीत की गई है। इसके बदले में भूविस्थापितों को बसाहट के लिए जमीन का आवंटन किया गया। प्लांट काटकर पुनर्वास ग्राम बसाया गया। यहां पर सड़क, पानी, बिजली सहित अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई गई। सपना ऐसा दिखाया गया था कि पुस्तैनी गांव को छोडऩे के बाद किसी प्रकार की कोई कमी नहीं होगी। लेकिन स्थिति इसके ठीक विपरीत है। आलम यह है कि लोग पेयजल के लिए भटक रहे हैं।

तालाब में पानी नहीं ठहरता। सड़क की मरम्मत नहीं की जा रही है। बिजली व्यवस्था जर्जर हालत में है। अस्पताल भवन का उपयोग ही नहीं हो पा रहा है। लोगों को इलाज कराने में परेशानी हो रही है। लोग मामले की लगातार शिकायत कर रहे हैं। इस पर सुनवाई नहीं हो रही है। इसे देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा पुनर्वास गांव को आदर्श ग्राम के रूप में विकसित करने की पहल की गई है। इस पर एसईसीएल द्वारा कार्य करने की सहमति दी जा चुकी है। प्रत्येक गांव में पांच करोड़ रुपए खर्च करने का प्रस्ताव है।

अधिकारियों का कहना है कि खदानों में कोयला उत्पादन किया जाता है। सड़क, पानी, बिजली जैसी सुविधाओं के लिए अलग से सेल कार्य नहीं करता। एक बार निविदा करके सुविधाएं उपलब्ध करा दी जाती है। बीच में मरम्मत का प्रावधान नहीं रहता। सीधे नए काम को स्वीकृति दी जाती है। अब आदर्श ग्राम को लेकर तैयारी की जा रही है। विकास कार्य होने के बाद किसी को कोई शिकायत नहीं होगी।

पेयजल पर फोकस

एसईसीएल द्वारा स्थापित पुनर्वास गांव खदान क्षेत्रों में ही स्थित हैं। इससे भू-जलस्रोत तेजी से नीचे जाता है। गर्मी के दिनों में बोर काम नहीं करते। इसे देखते हुए इस बार पाइप लाइन से पानी की व्यवस्था करने की योजना बनाई जा रही है। सड़क, बिजली आदि पर प्रमुखता से काम किया जाएगा।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे