Patrika Hindi News

लड़ाई किसी धर्म से नहीं व्यक्तिविशेष से है जो लालच देकर करा रहे धर्मांतरण: धर्म सेना

Updated: IST War with an individual who is responsible for reli
धर्म सेना की लड़ाई किसी भी धर्म विशेष नहीं है। हमारा विरोध उन व्यक्तिविशेष लोगों के खिलाफ है जो धर्म की आड़ में लालच देकर भोले-भाले लोगों का धर्मांतरण कर रहे हैं।

कोरबा. धर्म सेना की लड़ाई किसी भी धर्म विशेष नहीं है। हमारा विरोध उन व्यक्तिविशेष लोगों के खिलाफ है जो धर्म की आड़ में लालच देकर भोले-भाले लोगों का धर्मांतरण कर रहे हैं।

उक्त बातें जिले के प्रवास पर रहे धर्म सेना के प्रदेश सह संयोजक अमित तिवारी ने कहीं। उन्होंने आगे कहा कि प्रदेश भर में धर्म सेना का सदस्यता अभियान चलाया जा रहा है।

मिस्ड कॉल के जरिए भी सदस्य बनाए जा रहे हैं। वर्तमान में पूरे प्रदेश में 15 हजार सदस्य होने का दावा भी तिवारी ने किया। प्रेसवार्ता के दौरान धर्म सेना के अन्य पदाधिकारी राधेश्याम सिंह, सुरेन्द्र बहादुर सिंह, करूणा शंकर देवांगन, विष्णु पटेल, अदि मौजूद रहे।

अशिक्षा व गरीबी धर्मांतरण का प्रमुख कारण

धर्म सेना के पदाधिकारियों ने कहा कि हिन्दु धर्म की रक्षा व धर्मांतरण कर चुके लोगों की घर वापसी करवाना ही धर्म सेना का प्रमुख उद्देश्य है।

अब तक प्रदेश में हजारों की तादात में धर्मांतरण कर चुके लोगों की घर वापसी करवाई जा चुकी है। असल में पैसों व अन्य संसाधनों का प्रलोभर देकर धर्मांतरण करवाया जाता है। असल में अशिक्षा व गरीबी की इसके लिए मूल कारण है।

जिसे दूर करने के लिए धर्म जागरण समन्वय विभाग द्वारा लगातार विभिन्न तरह के कार्यक्रम चलाए जाते हैं। जिससे कि लोगो में सनातन धर्म व अपनी संस्कृति के प्रति जागरूकता आए।

जिले में स्थिति चिंताजनक

धर्म सेना के जिला स्तर के कार्यकर्ताओं ने बताया कि जिले में धर्मांतरण चिंताजनक स्थिति में है। खासतौर से पोड़ी व करतला इससे सर्वाधिक प्रभावित विकासखण्ड हैं।

हाल ही में हमने पाली में बन रहे अवैध चर्च का निर्माण रूकवाया है। जिले में कई ऐसी अवैध इमारतों का निर्माण हो रहा है। जिसके लिए प्रशासन से भी लगातार बातचीत जारी है।

कुछ संस्थाओं को विदेशी फंडिंग भी होती है। जो अपना धर्म परिवर्तन करते हैं। उन्हें पैसों का लालच भी दिया जाता है। हाल ही में दीपका में ऐसा ही एक मामला उजागर हुआ था।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???