Patrika Hindi News

> > > > Koriya : Chaos at the hospital, doctors left sweat to answer examined team

Hospital में अव्यवस्था, जांच टीम के सवालों का जवाब देने में Doctor's के छूटे पसीने

Updated: IST Inspection of hospital
कायाकल्प योजना के तहत जिला अस्पताल का हुआ फाइनल एसेसमेंट, राजधानी रायपुर की पांच सदस्यीय टीम ने सुविधाओं की ली जानकारी

बैकुंठपुर. कायाकल्प योजना के तहत गुरुवार को जिला अस्पताल का फाइनल एसेंसमेंट करने के लिए राजधानी रायपुर से पांच सदस्यीय टीम ने वार्ड संख्या, व्यवस्था, मरीज, स्टाफ, सफाई, भोजन व्यवस्था, प्रतियोगशाला सहित अन्य सुविधाओं की जानकारी ली। टीम ने निरीक्षण कर अस्पताल के डॉक्टर्स-मेडिकल स्टाफ से दिग्दर्शिका, नियम-कायदे सहित मरीज, सफाई से के संबंध में सवाल पूछे। इस दौरान कुछ डॉक्टर्स-स्टाफ ठीक से जवाब नहीं दे पाए।

राजधानी रायपुर में विशेष टीम में राज्य नोडल अधिकारी डॉ अभ्युद तिवारी, राजेश शर्मा, डॉ. दानी, डॉ. दुबे, डॉ विनय की पांच सदस्यीय विशेषज्ञ टीम सुबह करीब 9 जिला अस्पलाल पहुंची।

राजधानी से टीम पहुंचने की सूचना पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एसएल चावड़ा सहित डॉक्टर्स पहुंच गए। इस दौरान सिविल सर्जन डॉ ललिता राजनाला, आवासीय चिकित्साधिकारी डॉ योगेंद्र चौहान ने अस्पताल के हर वार्ड में मरीजों को उपलब्ध सुविधाएं, क्षमता, भर्ती मरीज, कीचन, पोषण आहार, पोषण पुनर्वास केंद्र, आईसीयू, बर्न यूनिट, चाइल्ड केयर यूनिट का एक-एक का निरीक्षण कर सुविधाओं की जानकारी दी। विशेषज्ञ टीम ने भी एक-एक वार्ड सहित यूनिट का फोटोग्राफ्स लेकर रिपोर्ट फाइल में प्वांइट नोट किया।

नहीं दे पाए जवाब

राजधानी की विशेषज्ञ टीम ने जिला अस्पताल का फाइलनल एसेसमेंट किया। इस दौरान टीम ने सफाई व्यवस्था, भोजन, शौचालय, प्रयोगशाला में उपलब्ध सुविधा सहित अन्य संसाधनों की बारीकी से जांच की। जानकारी के अनुसार इस दौरान टीम ने जिला अस्पताल के मेडिकल नर्स सफाई, हॉस्पिटल दिग्दर्शिका से संबंधित कई सवाल पूछे।

लेकिन अस्पताल के कुछ डॉक्टर्स-मेडिकल स्टाफ के माथे से पसीने आने लग गए और विशेषज्ञ टीम के सामने ही माथे का पसीना पोछते नजर आए। वहीं अस्पताल प्रबंधन के अनुसार डॉक्टर्स, नर्सिंग स्टाफ व कर्मचारियों की मेहनत से बेहतर करने का प्रयास किया गया है। राज्य स्तरीय टीम की रिपोर्ट के बाद ही एसेसमेंट की सही जानकारी मिल पाएगी।

फाइनल एसेसमेंट से पहले थी तैयारी

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार कायाकल्प योजना के तहत राज्य स्तरीय एसेसमेंट में 70 प्रतिशत से अंक पाने वाले जिला अस्पताल, सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों का फाइनल एसेसमेंट से पहले पूरी तैयारी की गई थी। इस दौरान अस्पताल में साफ-सफाई, रंगरोगन, बायोमेडिकल वेस्ट प्रबंधन व मरीजों को जागरूक किया गया था।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे