Patrika Hindi News

> > > > Highway jam seeking freedom from flooding intersection

हाईवे जाम कर बाढ़ कटान से मुक्ति की मांग

Updated: IST Highway Jam
प्रदर्शन में शामिल हुए सैकड़ों किसान.

लखीमपुर-खीरी.कई दशकों से बाढ़ का दंश झेल रही आवाम आखिरकार आवाज उठाने लगी है। हर साल बाढ़ भारी जन-धन की हानि करती है। बाढ़ के बाद तमाम तरह के खाके तैयार किए जाते हैं। मगर अगली बाढ़ में फिर सब पानी में ही बहे नजर आते हैं। आजिज लोगों ने अब इससे मुक्ति के लिए संगठन बना लिया है। संगठन ने सिसैया में प्रदर्शन कर प्रशासन से बाढ़ से मुक्ति दिलाने की मांग की है।

धौरहरा तहसील के ग्राम हटवा, रुद्रपुर, हुलासपुरवा सहित कई कटान पीडि़त व बाढ़ ग्रस्त गांवों के हजारों लोग बाढ़ कटान मुक्त संघर्ष मोर्चा के संयोजक संजय मिश्र व आर्य प्रताप सिंह के नेतृत्व में वाहनों के काफिले के साथ सिसैय्या चौराहा पहुंचे। वहां मार्ग जाम करते हुए सभी ने सरकार विरोधी नारे लगाए।

शारदा व घाघरा नदी द्वारा किए जा रहे कटान व बाढ़ से अविलम्ब मुक्ति दिलाने व प्रशासनिक मदद दिलाए जाने व राहत कार्य प्रारंभ करवाए जाने की मांग की। उन्होंने बताया कि क्षेत्र के हजारों पीडि़तों ने जिलाधिकारी से मिलकर राहत कार्य प्रारंभ किए जाने की मांग की थी। जिलाधिकारी ने आश्वासन दिया कि जल्द बाढ़ राहत काय्र प्रारंभ किए जाएंगे एवं जो पीडि़त प्रशासन की मदद करने से छूट गए हैं।

उनकी सूची बनाकर एसडीएम धौरहरा से कार्रवाई करने की आदेशित किया था लेकिन बाढ़ कटान रोकने के लिए कोई भी कार्य आज तक एक भी अधिकारी मौके पर नहीं गया और न ही कोई कार्य प्रारंभ किया। जिससे रुद्रपुर कला सहित सैकड़ों गांवों में कटान की विभीषिका बढ़ती जा रही है। रुद्रपुर कलां गांव भी कटने लगा है। जिससे वहां के लोगों की आजीविका का संकट उत्पन्न हो गया।

इससे आहत होकर पूरे क्षेत्र के हजारों कटान पीड़ित सिसैय्या चौराहे को जाम किया जिसमें एसडीएम व सीओ धौरहरा के द्वारा कटान पीडि़तों व संघर्ष मोर्चा के लोगों के प्रदर्शन समाप्त करने की बात की गई। उक्त प्रदर्शन में भाजपा नेता कन्हैया बाजपेई, अनुपम अवस्थी, विनोद धौरहरा, देवेन्द्र सिंह, मनीष मिश्रा, सुमित तिवारी, मुन्ना लाल, रहीश अली, गोवध्रन यादव व मनोज राजवंशी आदि लोग मौजूद रहे।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे