Patrika Hindi News

> > > > Appeal to CM Akhilesh yadav to take initiative regarding Dengue

UP Election 2017

डेंगू से बचने के लिए सीएम से गुहार, 'प्लीज गंदगी साफ करवाइए'

Updated: IST CM Akhilesh Yadav
डेंगू के खिलाफ एकजुट अभिभावक व स्कूल प्रशासन। डेंगू का कहर लगातार बढ़ता ही जा रहा है। मंगलवार को सिटी मॉन्टेसरी स्कूल में कक्षा आठ के छात्र समेत तीन मरीजों की बुखार से मंगलवार को मौत हो गई।

लखनऊ. डेंगू का कहर लगातार बढ़ता ही जा रहा है। मंगलवार को सिटी मॉन्टेसरी स्कूल में कक्षा आठ के छात्र समेत तीन मरीजों की बुखार से मंगलवार को मौत हो गई। कार्ड टेस्ट में इन सभी में डेंगू के लक्षण पाए गए थे। इससे पहले स्प्रिंगडेल स्कूल और मॉन्टफोर्ड इंटर कॉलेज में भी डेंगू के कारण छात्र की मौत हो चुकी है। इन मामलों के सामने आने के बाद पैरंट्स दहशत में हैं। मांटफोर्ड इंटर कॉलेज के कई अभिभावकों ने इस मामले में सीएम को पत्र लिखकर स्कूल के आस-पास फैली गंदगी साफ करवाने की गुहार लगाई है। स्कूल प्रशासन भी इस मामले में अभिभावकों के साथ है।

बातचीत में अभिभावक प्रदीप अग्रवाल ने बताया कि स्कूल के आसपास गंदगी फैली हुई है,इस कारण डेंगू फैलने का डर बढ़ गया है जिस वजह से उन्होंने सीएम को पत्र लिखकर गंदगी साफ करवाने की अपील की है। वहीं दूसरे अभिभावक अभिषेक अवस्थी का कहना है कि नगर निगम सबकुछ जानकर भी कुछ नहीं कर रहा है। ऐसे में सीएम की आखिरी उम्मीद हैं, उन्हें इस मामले को गंभीरता से लेना चाहिए। स्कूल के प्रिंसिपल ब्रदर जॉय थॉमस ने भी इस मामल में चिंता जताते हुए कहा कि स्कूल कैंपस के आस-पास फैली गंदगी साफ करने के लिए कई बार नगर निगम को सूचित किया गया लेकिन सफाई नहीं हुई। ऐसे में सीएम साहब से इस मामले में मदद की अपील की गई है।

स्वास्थ्य विभाग छुपा रहा आंकड़े

डेंगू के मामले में हर कदम पर गैर जिम्मेदाराना रवैया अपनाने वाले स्वास्थ्य विभाग ने अपनी लापरवाही छिपाने के लिए हाईकोर्ट में भी झूठ बोलने से गुरेज नहीं किया।हाईकोर्ट की फटकार के बाद स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू से कुल 67 मौतों का रिकॉर्ड इकट्ठा किया लेकिन कोर्ट में गिनाईं सिर्फ नौ मौतें। सीएमओ के पास कुल 31 मौतों का रिकॉर्ड है लेकिन उन मौतों को डेंगू मानने को तैयार नहीं है क्योंकि इन मरीजों की एलाइजा जांच नहीं हुई थी।

स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी की मानें तो कार्ड और एलाइजा जांच का नियम स्वास्थ्य विभाग का है तो मौतों का सही कारण बताने की जिम्मेदारी भी उसी की है। कार्ड टेस्ट में जिन मरीजों को डेंगू पॉजीटिव आया और उनकी मौत हुई और उनकी एलाइजा जांच नहीं कराई गई तो अब उन मौतों का सही कारण एलाइजा या पोस्टमार्टम रिपोर्ट से ही पता चल सकता है।

तीन की मौत, 156 नए मरीज

डेंगू का कहर लगातार बढ़ रहा है। राजधानी में 156 नए मरीजों की पुष्टी हुई है। वहीं बीते मंगलवार तीन लोगं की मौत हुई थी। ठाकुरगंज निवासी धीरेंद्र श्रीवास्तव के बेटे दिव्यांश श्रीवास्तव (14) ने दम तोड़ दिया था। कक्षा आठ में पढ़ने वाले दिव्यांश को कुछ दिनों से बुखार आ रहा था। हालत गंभीर होने पर उसे चरक अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां मंगलवार रात उसकी मौत हो गई। वहीं फरीदीनगर निवासी पूजा (22) को भी तीन दिन से बुखार था। तीमारदारों ने बताया कि पास के प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती करवाया था। इलाज के दौरान डेंगू होने की जानकारी मिली थी। इसी बीच अचानक हालत बिगड़ने उसे उन्होंने दम तोड़ दिया। वहीं, सफेदाबाद निवासी शकुंतला (35) की भी प्राइवेट हॉस्पिटल में संदिग्ध डेंगू से मौत हो गई। मरने वाले तीनों मरीजों के कार्ड टेस्ट में डेंगू पॉजिटिव रहा था।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???