Patrika Hindi News
UP Election 2017

मायावती के जन्मदिन पर ये 10 बातें जो आप नहीं जानते होंगे

Updated: IST making of mayawati
जन्मदिन को लेकर अक्सर विवादों का सामना करने वाली उत्तर प्रदेश की चार बार मुख्यमंत्री रह चुकीं मायावती शुक्रवार को अपना 61वां जन्मदिन मनाएंगी

लखनऊ. जन्मदिन को लेकर अक्सर विवादों का सामना करने वाली उत्तर प्रदेश की चार बार मुख्यमंत्री रह चुकीं मायावती शुक्रवार को अपना 61वां जन्मदिन मनाएंगी। वहीं बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती की जन्मदिन पार्टी में शिरकत करने को आतुर रहने वाले पार्टी के नेता, कार्यकर्ताओं, अफसरों को इस बार निराशा हाथ लगेगी। इसकी मुख्य वजह चुनाव आयोग है, जिसने राज्य में चुनाव आचार संहिता के लागू होने के कारण बीएसपी अध्यक्ष के जन्मदिन पर अपनी नजरें गड़ा दी हैं। बसपा सुप्रीमो के 61वें जन्मदिन पर आइए जानते हैं उनसे जुड़ी कुछ खास बातें...

1- मायावती का पूरा नाम मायावती नैना कुमारी है। उनका जन्म 15 जनवरी 1956 को दिल्ली के सरकारी अस्पताल श्रीमती सुचेता कृपलानी में हुआ था।

2- मायावती के पिता प्रभु दास, दिल्ली में सरकारी कर्मचारी थे और दूरसंचार विभाग में क्लर्क के पद पर तैनात थे।

3- मायावती की माता रामरती पढ़ी-लिखी जरूर नहीं थीं, लेकिन समझदारी में किसी से कम भी नहीं थीं। दिल्ली जैसे शहर में वह अपने दम पर एक दूध की डेयरी चलाती थीं, जो परिवार को आर्थिक मदद देती थी।

4- चार बार प्रदेश की मुख्यमंत्री रहने के बावजूद, मायावती अपने परिवार के साथ नहीं रहती हैं। आज भी उनका परिवार दिल्ली में अलग रहता है जबकि बसपा सुप्रीमो के पास लखनऊ और दिल्ली में अपने बंगले हैं।

5- हर चेतना संपन्न दलित की तरह मायावती में भी दलित आंदोलन की पहली समझ बाबा साहब अंबेडकर की जीवनी और उनकी किताबें पढक़र ही आईं। इन किताबों से मायावती का पहला परिचय उनके पिता ने कराया था।

6- साल 1984 में जब बसपा की स्थापना हुई तो मायावती कांशीराम की कोर टीम का हिस्सा बनीं।

7 - मायावती ने अपना पहला लोकसभा चुनाव उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर के कैराना लोकसभा सीट से लड़ा था।

8- 3 जून 1995 को मायावती पहली बार उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बनीं। इसी के साथ उनके नाम दो रिकॉर्ड दर्ज हुए। पहला उत्तर प्रदेश की सबसे युवा सीएम का और दूसरा देश की पहली महिला दलित मुख्यमंत्री का।

9- मायावती ने एलएलबी और बीएड की पढ़ाई कर रखी है। इसके आलावा राजनीति में आने से पहले वे बतौर शिक्षक अपनी सेवा भी दे चुकी हैं।

10-मायावती एेसे सीएम थीं जिन्होंने केंद्र की अोर से बनी खराब सड़कों की लिस्ट होर्डिंग बनवाकर लखनऊ में लगवाई थी।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???