Patrika Hindi News
UP Election 2017

सीडीआरआई की 'छाया' से भारत की बढ़ती आबादी को रोकने का प्रयास

Updated: IST cdri chaya
सीएसआईआर सीडीआरआई की गर्भ निरोधक दवा छाया को अब राष्ट्रिय परिवार नियोजन कार्यक्रम में शामिल किया जायेगा

लखनऊ.सीडीआरआई द्वारा बनाए गए एक और प्रोडक्ट को बड़ी उपलब्धि हासिल हुई। दवा बनाने वाली वैज्ञानिक संस्था सीएसआईआर सीडीआरआई की गर्भ निरोधक दवा छाया को अब राष्ट्रिय परिवार नियोजन कार्यक्रम में शामिल किया जायेगा। इस बात की घोषणा केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जेपी नड्डा ने किया। उन्होंने बताया की परिवार नियोजन के राष्ट्रिय कार्यक्रम में सीडीआरआई द्वारा बनाई गई दवा महिलाओं को निशुल्क बांटी जाएगी।

सीडीआरआई की निदेशक डॉ मधु दीक्षित ने कहा की यह हमारे लिए गौरव का पल है कि हमारा अनुसंधान उत्पाद सेण्ट्क्रोमान अब इस प्रकार के राष्ट्रीय महत्व के कार्यक्रम मे सम्मिलित किया गया है। उन्होने पद्मश्री डॉ नित्यानन्द के नेतृत्व मे अनुसंधानकर्ताओं कि उस टीम कि सराहना की जिनके अथक प्रयासों से यह उत्पाद तैयार हो पाया। सेण्ट्क्रोमान ओर्मेलोक्सिफिन केन्द्रीय औषधि अनुसंधान संस्थान द्वारा तैयार किया गया है। जिसे एचएलएलए लाइफ केयर लिमिटेड ने वर्ष 1991 मे व्यवसायीकृत किया था। यह अभी तक उपलब्ध अकेली नॉन स्टेरोइडल गोली है। इसके कोई दुष्प्रभाव नहीं हैं।

सुरक्षित है सीडीआरआई की गर्भनिरोधक दवा

डॉ मधु ने बताया की सीडीआरआई की दवा सबसे सुरक्षित गर्भनिरोधक मानी गई है। जिसकी एक हफ्ते मे एक खुराक ली जाती है। सेण्ट्क्रोमान व्यावसायिक रूप से सहेली के नाम से उपलब्ध था जो अब राष्ट्रीय परिवार नियोजन कार्यक्रम मे छाया के नाम से उपलब्ध होगा ।

सेण्ट्क्रोमान महिलाओं को गर्भधारण करनेए बच्चों के बीच अंतर रखने की आज़ादी तो देती ही है साथ ही असुरक्षित गर्भपात की व्यथा से भी मुक्ति दिलाती है ।भारतीय महिलाओं के पास अब बच्चों के जन्म को नियंत्रित करने के अनेक विकल्प उपलब्ध होंगे क्योंकि सरकार ने राष्ट्रीय परिवार नियोजन कार्यक्रम मे सेण्ट्क्रोमान जैसी मुख से लेने वाली सुरक्षित गर्भनिरोधक गोली को सम्मिलित करने का आदेश दिया है। यह गर्भनिरोधक सभी ज़िला अस्पतालों के साथ साथ सभी प्राथमिक स्वस्थ्य केन्द्रोंए सामुदायिक स्वस्थ्य केन्द्रों पर निशुल्क उपलब्ध रहेगा।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???